Breaking
  • तीन तलाक बिल: मेनका गांधी ने कहा- कानून की आवश्यकता पर नहीं उठाए सवाल
  • अब सरकार से बड़े आर्थिक सुधार की उम्मीद होगी बेमानी: एसोचैम
  • बलूचिस्तान: क्वेटा में चर्च के पास धमाका, चार घायल
  • INDvSL तीसरा वनडे: भारत ने टॉस जीतकर लिया गेंदबाजी का फैसला
  • असम के धेमाजी में आया 4.2 तीव्रता का भूकंप
  • सुरक्षा बलों ने बारामुला के पट्टन इलाके में सर्च ऑपरेशन किया लॉन्च
  • पाकिस्तान सरकार ने जाधव की पत्नी और मां के वीजा को किया मंजूर
  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी सांसद और पद अधिकारियों को दिया डिनर का न्योता
  • मध्यप्रदेश: कांग्रेस नेता कमल नाथ पर बंदूक तानने वाले पुलिस कांस्टेबल के खिलाफ FIR दर्ज
  • अमृतसर, जालंधर और पटियाला की 32 नगर परिषदों और नगर पंचायतों पर मतदान हुआ शुरू
  • गुजरात चुनाव: आज 6 बूथों पर फिर से होगा मतदान

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने मुझसे भी की थी दबंगई : पहलाज निहलानी

  |  Updated On : December 02, 2017 07:44 PM
 पहलाज निहलानी (फाइल फोटो)

पहलाज निहलानी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के पूर्व अध्यक्ष और फिल्म निर्माता पहलाज निहलानी 'पद्मावती' को सेंसर बोर्ड के देखने से पहले ही संसदीय समिति के निर्देशक संजय लीला भंसाली से सवाल करने के फैसले से स्तब्ध हैं। उन्होंने दावा किया कि सूचना प्रसारण मंत्रालय ने उनके कार्यकाल के दौरान भी ऐसी ही दबंगई दिखाई थी और उन्हें परेशान किया था। 

उन्होंने कहा, 'निसंदेह, संसदीय समिति के पास भंसाली और किसी भी निर्माता से सवाल पूछने का पूरा अधिकार है। लेकिन तब, जब केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड फिल्म को देख ले और उसे प्रमाणपत्र जारी कर दे।'

निहलानी ने कहा, 'सेंसर प्रमाणपत्र से पहले उनसे सवाल करना, सीबीएफसी के अधिकार क्षेत्र को चुनौती देना है क्योंकि बोर्ड ही किसी फिल्म के भाग्य का फैसला करने वाली अंतिम इकाई है।'

निहलानी का मानना है कि लगता है कि सीबीएफसी ने अपना प्रभुत्व खो दिया है। उन्होंने कहा, 'मेरे कार्यकाल के दौरान भी, सूचना प्रसारण मंत्रालय ने निर्णय लेने के लिए मुझे भी परेशान (बुलीड) किया था।' 

उन्होंने कहा, 'अब यह खुला खेल (फ्री फार आल) हो गया है। कोई भी और हर शासी निकाय किसी फिल्म पर सवाल कर सकता है। ऐसे में सीबीएफसी के लिए जगह कहां बचती है?'

इसे भी पढ़ें: क्या इस गाने से चोरी की गई है सलमान खाने के 'स्वैग से स्वागत' की धुन!

निहलानी को आश्चर्य होता है कि 'आखिर 'पद्मावती' फिल्म को प्रताड़ित किया जाना कब बंद होगा। आखिर भंसाली कितनी समितियों को जवाब देंगे? और, यह कहां जाकर समाप्त होगा?'

निहलानी ने सवाल किया, 'क्यों भारत के एक श्रेष्ठ फिल्म निर्माता से बार बार सफाई देने के लिए कहा जा रहा है? और क्यों नहीं सीबीएफसी मुद्दे को निर्णायक रूप से साफ करने के लिए कोई कदम नहीं उठा रहा है।'

निहलानी का बतौर सीबीएफसी अध्यक्ष का कार्यकाल विवादों से जुड़ा रहा था। 

इसे भी पढ़ें: 'पद्मावती' विवाद पर दीपिका पादुकोण को लेकर यह क्या बोल गए नाना पाटेकर

संसदीय समिति के सामने पेश हुए थे संजय लीला भंसाली

स्थायी समिति के सदस्यों ने दो घंटे से ज्यादा समय तक भंसाली से फिल्म के संबंध में सवाल किए।  पैनल के सदस्यों ने भंसाली से यह पूछा कि आपने सेंसर बोर्ड को भेजने से पहले कुछ चुनिंदा लोगों को यह फ़िल्म क्यूं दिखाई, जिसके जवाब पर भंसाली चुप्पी साध गए। 

कमेटी ने कहा, 'आप कह रहे हैं कि ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ नही किया लेकिन अगर आप उसी नाम से और उसी घटना के आधार पर फ़िल्म बना रहे हैं तो क्या संभव है कि तथ्यों से छेड़छाड़ न हो?' 

भंसाली ने कहा कि फिल्म में  16वीं सदी की राजपूत रानी के बारे में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि फिल्म पर विवाद अफवाहों की वजह से उठे हैं।

इसे भी पढ़ें: भंसाली संसदीय समिति को दी सफाई-कहा अफवाहों पर अधारित है विवाद

'पद्मावती विवाद'

बता दें कि फिल्म 'पद्मावती' पर इतिहास के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप लग रहे हैं। दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह जैसे सितारों से सजी फिल्म की रिलीज डेट टलने से फिल्म की कास्ट और मेकर्स काफी परेशान हैं। पहले यह फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज हो रही थी, लेकिन अब इसे लेकर सस्पेंस बरकरार है।

राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश समेत पूरे देश में ​राजपूत और करणी सेना 'पद्मावती' ​का लगातार विरोध कर रही है। करणी सेना व अन्य राजपूत समुदाय फिल्म को बैन करने की मांग कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: अरुण जेटली ने कहा- 'पद्मावती' पर सेंसर बोर्ड को ही फैसला करने दें

IANS के इनपुट के साथ

RELATED TAG: Pahlaj Nihalani,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो