उत्तराखंड में बाढ़ प्रभावित इलाकों में बचाव अभियान जारी

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में बादल फटने से आए बाढ़ के तीन दिन बाद भी बचाव अभियान जारी है। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि मलपा में खराब मौसम और मुश्किल हालात होने के कारण अभियान में बाधा आ रही है।

  |   Updated On : August 16, 2017 02:22 PM

नई दिल्ली:  

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में बादल फटने से आए बाढ़ के तीन दिन बाद भी बचाव अभियान जारी है। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि मलपा में खराब मौसम और मुश्किल हालात होने के कारण अभियान में बाधा आ रही है।

अधिकारियों ने मृतकों की संख्या बढ़ने का अंदेशा जताया है। अब तक 17 लोग मारे जा चुके हैं और जूनियर कमीशंड ऑफिसर (जेसीओ) और पांच सैन्यकर्मियों सहित 30 से ज्यादा लापता हैं।

लापता लोगों का पता लगाने के लिए मलपा और घाटिबागढ़ में उचित तरीके से बचाव अभियान शुरू होना अभी बाकी है। बचाव अभियान में सशस्त्र सीमा बल और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के जवान शामिल हैं।

राज्य सरकार ने बचाव कार्य के लिए एक हेलिकॉप्टर भी दिया है, जो पिथौरागढ़ में तैनात है। एक जेसीओ और दो अन्य सेना के जवान मंगलवार को मलबे के बीच पाए गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

डुंगडुंग में सोमवार सुबह बादल फटा और मलपा में भी 7,000 फीट की ऊंचाई पर बादल फटा, जिसे मलपा नहर, नानगाद व थुलगाद और सिमखोला नदी में बाढ़ आ गई। तेज बहाव की चपेट में आकर तीन होटल, एक आर्मी ट्रांजिट कैम्प और कई लोगों सहित वाहन बह गए।

एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि अब तक छह शव बरामद किए जा चुके हैं और तलाशी अभियान जारी है।

First Published: Wednesday, August 16, 2017 02:12 PM

RELATED TAG: Uttarakhand, Flood,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो