Breaking
  • ट्राई ने घटाई टर्मिनेशन दरें, कम होगा आपका मोबाइल बिल -Read More »
  • रॉकेट मैन अपने लोगों और भ्रष्ट शासन के लिए आत्मघाती मिशन पर: ट्रंप -Read More »
  • इकबाल कासकर मामले में दाऊद और नेताओं के रोल की भी होगी जांच -Read More »

भारत-जापान समझौते पर चीन की चेतावनी, पूर्वोत्तर के विवादित क्षेत्र में विदेशी निवेश मंजूर नहीं

By   |  Updated On : September 16, 2017 09:51 AM
पूर्वोत्तर के विवादित क्षेत्र में विदेशी निवेश पर चीन ने जताई आपत्ति (फाइल फोटो)

पूर्वोत्तर के विवादित क्षेत्र में विदेशी निवेश पर चीन ने जताई आपत्ति (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

चीन ने कहा है कि वह भारत के उत्तर-पूर्व के राज्यों में जापान समेत किसी भी विदेशी निवेश का विरोधी है। साथ ही उसने कहा है कि वो सीमा विवाद को लेकर किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता को स्वीकार नहीं करेगा।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की भारत यात्रा के दौरान पूर्वोत्तर के राज्यों में निवेश करने में तेजी लाने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा पूर्वोत्तर के विवादित क्षेत्र में किसी भी तरह के निवेश का विरोध करता है।

चुनयिंग ने कहा, 'आपने ऐक्ट ईस्ट नीति का भी जिक्र किया। आपको स्पष्ट होना चाहिए कि भारत और चीन सीमा अभी पूरी तरह निर्धारित नहीं है। दोनों के बीच पूर्वी हिस्से में सीमा को लेकर मतभेद है।'

उन्होंने कहा, 'हम बातचीत के जरिए समाधान तलाशने की कोशिश कर रहे हैं जो दोनों पक्षों को मंजूर हो। ऐसी स्थिति में विभिन्न पक्षों को इन पहलुओं का सम्मान करना चाहिए और विवाद को हल करने की हमारी कोशिशों में किसी भी तीसरे पक्ष को शामिल नहीं किया जाना चाहिए।'

और पढ़ें: भारत-जापान नजदीकी से भन्नाया चीन, बोला- गठजोड़ नहीं साझेदारी करें

चीन दावा करता है कि अरुणाचल प्रदेश दक्षिणी तिब्बत है।

हुआ ने कहा कि जिस तरह से मीडिया में जिस तरह की खबरें आ रही हैं उसमें कही भी चीन का जिक्र नहीं किया गया है।

उन्होंने कहा, 'स्पष्ट तौर पर कहा जाए तो हमने जापान के प्रधानमंत्री की भारत यात्रा पर करीब से नजर रखा हुआ है। मैंने साझा बयान को बारीकी से पढ़ा है, लेकिन मैने बयान में कहीं भी चीन का जिक्र नहीं देखा।'

और पढ़ें: CBI करेगी प्रद्युम्न हत्या मामले की जांच, खट्टर सरकार ने दिये आदेश

साउथ चाइना सी पर पूछे गए एक सवाल पर उन्होंने कहा कि साझा बयान में कहा गया है कि विवाद को बातचीत के माध्यम से सुलझाया जाना चाहिये।

हुआ ने कहा, 'मुझे यह भी कहना चाहिए कि भारत और जापान एशिया के महत्वपूर्ण देश हैं। हमें उम्मीद है कि संबंधों का सामान्य विकास क्षेत्र की शांति और विकास के हित में होगा और रचनात्मक भूमिका भी अदा करेगा।'

और पढ़ें: सहवाग का खुलासा, BCCI में सेटिंग नहीं होने की वजह से कोच नहीं बना

RELATED TAG: India, Japan, China, North Eastern States,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो