Breaking
  • पीएम नरेंद्र मोदी लंदन से जर्मनी पहुंचे, एंजेला मर्केल के साथ करेंगे डिनर
  • CBI ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को पोक्सो कोर्ट में किया पेश, सात दिन की बढ़ाई कस्टडी
  • IPL 2018 CSK Vs RR: राजस्थान रॉयल्स ने जीता टॉस, गेंदबाजी का फैसला
  • कश्मीरी युवक एनडीए एक्जाम पास करने के बाद हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल
  • महाभियोग से न्यायपालिका को डराने की कोशिश कर रही कांग्रेस
  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट
  • कर्नाटक चुनाव: मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने चमुंदेश्वरी विधानसभा से नामांकन दाखिल किया
  • कांग्रेस ने CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव का नोटिस उप राष्ट्रपति को सौंपा
  • नरोदा पटिया दंगा मामला: गुजरात HC ने पीड़ितों की मुनाफा मांगने की अपील को खारिज किया
  • भारत के श्रीमंत झा ने एशियाई आर्मरेसलिंग चैंपियनशिप के 80 किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक जीता
  • नरोदा पाटिया दंगा मामला: माया कोडनानी को गुजरात HC ने बरी किया, बाबू बजरंगी की सजा बरकरार
  • SC ने महाभियोग को लेकर हो रही मीडिया रिपोर्टिंग पर बैन की मांग पर अटॉनी जनरल 7 मई तक देंगे राय
  • चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग की चर्चा को सुप्रीम कोर्ट ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

दिल की बीमारी के कारण दुनियाभर में होती है हर तीसरी मौत

  |   Updated On : May 19, 2017 01:14 PM

नई दिल्ली:  

हाल के एक ताजा अध्ययन ने दिल के रोगों से जुड़ा चेतावनीपूर्ण खुलासा किया है। अध्ययन के मुताबिक, दुनियाभर में होने वाली हर तीन में एक मौत दिल संबंधी रोगों (सीवीडी) की वजह से होती है।

शोधकर्ताओं ने 1990-2010 के बीच सीवीडी के प्रसार पर गौर किया तो पाया कि शुरुआती कुछ वर्षो में सीवीडी से मौत की दर में इजाफा हुआ, लेकिन उसके बाद एसडीआई के बढ़ने से इसमें तेजी से गिरावट आई, हालांकि बीते कुछ वर्ष से सीवीडी से होने वाली मौतों की दर स्थिर है।

साल 1990 में वैश्विक स्तर पर प्रत्येक 1,00,000 लोगों पर 393 लोगों की मौत सीवीडी के कारण हुई। यह आंकड़ा 2010 में प्रत्येक 1,00,000 पर 307 मौतों का रहा और अगले पांच वर्षो में इसमें गिरावट आई और यह आंकड़ा प्रत्येक 1,00,000 पर 286 मौतों का रहा।

इसे भी पढ़ें: गुस्सा आने पर जमकर दीजिए गाली, बढ़ाएगी आपकी सहनशक्ति और मजबूती

साल 1990-2010 में सीवीडी से आयु-मानकीकृत मृत्यु दर में वैश्विक स्तर पर गिरावट आई। इसकी वजह उच्च आय वाले देशों के सुधार रहे। लेकिन बीते पांच सालों में इसकी प्रगति में गिरावट आई है।

साल 2015 में 40 करोड़ लोग सीवीडी के साथ जी रहे हैं और दुनिया भर में सीवीडी से मरने वालों की संख्या करीब 1.8 करोड़ रही।

इसे भी पढ़ें: दिल का दौरा, कार्डियक अरेस्ट या हार्ट बर्न: जानिए क्या है इनके लक्षण और इलाज

वाशिंगटन विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर ग्रेगरी रॉथ का कहना है किसी वीडी के जोखिम कारकों में उच्च रक्तचाप, असंतुलित आहार, उच्च कोलेस्ट्रॉल, तंबाकू-धूम्रपान, शराब की ज्यादा खपत और मोटापा शामिल है जो पूरी दुनिया में आम है।

RELATED TAG: Heart Attack,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो