मनोहर पर्रिकर ने गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार 16 मार्च को साबित करेंगे बहुमत

गोवा में राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप के बीच पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इससे पहले राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

  |   Updated On : March 14, 2017 07:55 PM
ख़ास बातें
  •  मनोहर पर्रिकर ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ
  •  सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार 16 मार्च को साबित करना होगा बहुमत
  •  गोवा में सबसे बड़ी पार्टी है कांग्रेस, पार्टी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया है आदेश

नई दिल्ली:  

गोवा में राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप के बीच पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने मुख्यमंत्री के तौर पर पर्रिकर को शपथ दिलाई। पर्रिकर चौथी बार मुख्यमंत्री बने हैं।

पर्रिकर ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्रियों वेंकैया नायडू, नितिन गडकरी, जे.पी. नड्डा सहित शीर्ष पार्टी नेताओं और अन्य गणमान्यों की उपस्थिति में शपथ ली।

पर्रिकर के साथ ही 9 मंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई। इनमें महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के सुदिन धवलीकर और मनोहर अजगांवकर तथा गोवा फॉरवर्ड के विजय सरदेसाई, विनोद पलिनकर व जयेश सालगांवकर और भाजपा के फ्रांसिस डिसूजा, पांडुरंग मडकैकर तथा निर्दलीय गोविंद गावडे व रोहन खाउंटे शामिल हैं।

इससे पहले राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। सुप्रीम कोर्ट ने पर्रिकर को गोवा विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए गुरुवार (16 मार्च) का दिन तय किया। साथ ही कहा कि इसके लिए सभी औपचारिकताएं 15 मार्च तक पूरी कर ली जाएं।

इससे पहले राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने पर्रिकर को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का समय दिया था।

गोवा में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे बीजेपी नेता मनोहर पर्रिकर ने मंगलवार को कहा कि वह शाम को अपने शपथ ग्रहण समारोह के बाद ही सुप्रीम कोर्ट के शक्ति परीक्षण के आदेश पर कोई टिप्पणी करेंगे। वहीं, कांग्रेस ने शीर्ष न्यायालय के आदेश को 'बड़ी जीत' करार दिया है।

और पढ़ें: SC बोला 16 को फ्लोर टेस्ट कराओ; कांग्रेस से पूछा- राज्यपाल के पास क्यों नहीं गये

पर्रिकर ने गोवा में बीजेपी के नए मुख्यमंत्री का पदभार संभालने के लिए सोमवार को रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को 'कांग्रेस के लिए बड़ी जीत' कहा है।

क्या है सीटों का समीकरण
गोवा की 40 सदस्यीय विधानसभा के लिए 4 फरवरी को हुए चुनाव में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिला है। हालांकि कांग्रेस 17 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, लेकिन यहां सरकार गठन के लिए किसी भी पार्टी को 21 विधायकों के समर्थन की आवश्यकता है।

और पढ़ें: जेटली ने गोवा में BJP के दावे को सही ठहराया, कहा- कांग्रेस को शिकायत करने की आदत है

बीजेपी को हालांकि इस चुनाव में 13 सीट ही मिली हैं, लेकिन उसने क्षेत्रीय दलों गोवा फॉरवर्ड तथा महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के तीन-तीन विधायकों और दो अन्य निर्दलीय विधायकों के समर्थन का पत्र राज्यपाल को सौंप सरकार बनाने का दावा पहले पेश कर दिया।

गेम विधानसभा क्षेत्र से एक अन्य निर्दलीय विधायक प्रसाद गाओंकर ने भी सोमवार को बीजेपी को समर्थन का पत्र सौंपा। जिसके बाद राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को सरकार गठन का न्योता दिया।

और पढ़ें: कांग्रेस को भी ईवीएम से प्रॉब्लम, केजरीवाल की तरह एमसीडी चुनाव में बैलेट पेपर की मांग

First Published: Tuesday, March 14, 2017 04:51 PM

RELATED TAG: Congress, Bjp, Manohar Parrikar, Goa, Supreme Court, Floor Test, Manohar Parrikar,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो