जीएसटी 2017: जुलाई से शुरु होगा, तैयारी न कर पाने का कंपनियों का बहाना नहीं चलेगा: जेटली

By   |  Updated On : June 20, 2017 11:58 PM
जेटली बोले, जीएसटी पर नहीं चलेगा बहाना

जेटली बोले, जीएसटी पर नहीं चलेगा बहाना

ख़ास बातें
  •  कंपनियों का यह बहाना नहीं चलेगा कि वे इसके लिए तैयारी नहीं कर पायी है
  •  उन्हें इसके के लिये पर्याप्त समय दिया गया है
  •  जीएसटी कर चोरी रोकेगा और लंबे समय में करदाताओं की संख्या बढ़ेगी

नई दिल्ली:  

वित्त मंत्री अरूण जेटली ने मंगलवार को कहा कि सरकार आगामी एक जुलाई से जीएसटी लागू करने के तय कार्यक्रम से पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि कंपनियों का यह बहाना नहीं चलेगा कि वे इसके लिए तैयारी नहीं कर पायी है क्योंकि उन्हें इसके के लिये पर्याप्त समय दिया गया है।

वित्त मंत्री ने कहा कि जीएसटी के क्रियान्वयन में शुरुआत में कुछ व्यवधान और तकनीकी अड़चने आ सकती हैं क्योंकि व्यापारियों तथा छोटी से छोटी इकाइयों को जीएसटी रिटर्न ऑनलाइन फाइल करना होगा।

जीएसटी के आने से दर्ज़नों केंद्रीय और राज्यस्तरीय शुल्कों को ख़त्म कर पूरे देश में एक कर तया किया जाएगा।

शुरुआत में जीएसटी एक अप्रैल से लागू किया जाना था लेकिन इसे तीन महीने के लिये टाल दिया गया। इसकी शुरूआत 30 जून की मध्यरात्रि से संसद के केंद्रीय कक्ष में आयोजित भव्य कार्यक्रम में होगी।

गणतंत्र दिवस परेड में दिखी जीएसटी झांकी, 1 जुलाई 2017 से देश में लागू होगा GST

जेटली ने कहा कि जीएसटी से मध्यम से दीर्घावधि में केंद्र तथा राज्यों को अधिक राजस्व प्राप्त होगा और अर्थव्यवस्था का आकार बढ़ेगा तथा जीडीपी पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

जेटली ने कहा कि नई व्यवस्था में केंद्रीय उत्पाद कर, सेवा कर और राज्यों में वैट में पहले से पंजीकृत इकाइयों का जीएसटी प्रणाली में पंजीकरण का काम अच्छे तरीके से जारी है।

वित्त मंत्री ने कहा, 'यह बहुत जटिल प्रक्रिया नहीं है। जीएसटी कर चोरी रोकेगा और लंबे समय में करदाताओं की संख्या बढ़ेगी।

और पढ़ें: GST कानून में नरमी की तैयारी, 2 करोड़ रुपये की चोरी ज़मानती अपराध में शामिल

उन्होंने कहा, 'कुल 65 लाख करदाता पहले ही पंजीकरण करा चुके हैं और अन्य के इससे जुड़ने की उम्मीद है। 65 लाख ने जो पंजीकरण कराया है, उन्हें कोई समस्या नहीं हुई, जिन पांच को समस्या का सामना करना पड़ा, वे ट्विटर पर हैं।'

जीएसटी के क्रियान्वयन को टाले जाने को खारिज करते हुए जेटली ने कहा कि जब सुधारों को क्रियान्वित किया जाता है, पहला सिद्धांत यह है आपको पीछे नहीं हटना चाहिए, यदि आप पीछे होंगे तो पटरी से उतर जाएंगे।

उन्होंने कहा, 'हम पिछले 6 महीने से कह रहे हैं कि तिथि एक जुलाई है। अब किसी के भी कहने का कोई मतलब नहीं है कि कंपनियां तैयार नहीं है।'

और पढ़ें: अप्रैल से नहीं अब एक जुलाई 2017 से लागू होगा GST, दोहरे नियंत्रण को लेकर केंद्र और राज्यों में बनी सहमति

जेटली ने कहा कि सरकार पहले ही शुरूआती रिटर्न फाइल करने के लिये तारीख में छूट दे चुकी है और व्यापारियों तथा कंपनियों के पास 5 सितंबर तक का समय है जबकि पहले यह समयसीमा 10 अगस्त थी।

उन्होंने कहा, 'अभी भी तैयार होने के लिये ढाई महीने हैं लेकिन अगर कंपनियां इसके बाद भी तैयार नहीं होती, मुझे अफसोस के साथ कहना होगा कि वह तैयार नहीं होना चाहती।'

GST के कुछ प्रावधानों पर IRS अधिकारियों का विरोध प्रदर्शन

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे