BREAKING NEWS
  • Today History: आज ही के दिन अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस को यूनेस्को ने स्वीकृति दी थी, जानें आज का इतिहास- Read More »
  • 'कहीं बुरे तो कहीं अच्छे' काम के लिए पिटे पुलिसवाले, पढ़िए पूरी खबर- Read More »
  • Horoscope, 17 November: जानिए कैसा रहेगा आज आपका दिन, पढ़िए 17 नवंबर का राशिफल- Read More »

महज 30 मिनट में न्यूयॉर्क-वॉशिंगटन को बर्बाद कर देगी चीन की यह मिसाइल

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : October 01, 2019 03:50:02 PM
चीन की यह मिसाइल आधे घंटे में तबाह कर देगी अमेरिका को.

चीन की यह मिसाइल आधे घंटे में तबाह कर देगी अमेरिका को. (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  15 हजार किमी तक मार करने में सक्षम डीएफ-41 मिसाइल अमेरिका को भी निशाना बनाने में सक्षम.
  •  डीआर-8 ड्रोन ध्वनि की गति से भी पांच गुना तेज रफ्तार पर उड़ सकता है.
  •  20 लाख से अधिक सैन्य बल वाली चीन की पीएलए विश्व की सबसे बड़ी सेना.

पेइचिंग:  

हांगकांग (Hongkong) से विवाद के बीच मंगलवार को चीन में साम्यवादी शासन (Communist Rule) के 70 साल होने पर राष्ट्रव्यापी जश्न मनाया जा रहा है. वास्तव में यह जश्न कम है और चीन की सैन्य क्षमता और शक्ति प्रदर्शन ज्यादा. इस मौके पर चीन ने विशाल सैन्य परेड (Military Parade) के साथ-साथ अपने घातक हथियारों, मिसाइलों (Missile) का भी प्रदर्शन किया. इसमें सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र रही डीएफ-41 मिसाइल (DF-41 Missile), जिसे फिलहाल पृथ्वी की सबसे शक्तिशाली मिसाइल बताया जा रहा है. 15 हजार किमी तक मार करने में सक्षम यह मिसाइल अमेरिका (US) को भी निशाना बनाने में सक्षम है. एक साथ 10 परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम डीएफ-41 मिसाइल महज 30 मिनट में न्यूयॉर्क-वॉशिंगटन (NewYork Washington) को बर्बाद कर सकती है.

यह भी पढ़े: इमरान खान अपना 'वादा' पूरा करने में लगे, जम्मू से 18 किलो विस्फोटक बरामद

शी ने चीन के विकास का खींचा खाका
कम्युनिस्ट शासन के 70 साल पूरे होने पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रपति (President) शी जिनपिंग (Xi Jinping) के संबोधन से हुई. थ्यानमेन चौक पर आयोजित समारोह में उन्होंने कहा, 'दुनिया की कोई ताकत चीन के लोगों और बतौर राष्ट्र चीन को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती है.' बतौर चीनी राष्ट्रपति शी ने चौथी विशालकाय सैन्य परेड की सलामी ली है. शी ने अपने संबोधन में पिछले 70 वर्ष में चीन के लोगों की उपलब्धियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि हजारों वर्षों तक चीन को अपनी गिरफ्त में रखने वाली समस्या गरीबी अब खत्म होने की कगार पर है.

यह भी पढ़े: रोचक तथ्‍यः चीन और पाकिस्तान में भी हैं महात्मा गांधी की प्रतिमाएं, दुनिया के 84 देश बापू के फैन

रडार से बच ध्वनि से पांच गुना रफ्तार तेज है ड्रोन डीआर-8
इसके बाद शुरू हुआ चीन का सैन्य ताकत प्रदर्शित करने का सिलसिला. चैंगान एवेन्यू (Chang'an Avenue) पर चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के एक लाख जवानों ने अपनी-अपनी सैन्य क्षमताओं का प्रदर्शन किया. इस दौरान चीन के लड़ाकू हेलीकॉप्टर आसमान में चीन के राष्ट्रीय ध्वज को फहराते नजर आए. इस सैन्य परेड में परंपरागत ड्रोन के अलावा चीन ने अत्याधुनिक हथियारों की बढ़-चढ़कर नुमाइश की. इनमें रडार की नजर में न आने वाले डीआर-8 ड्रोन (DR-8 Drone) समेत पानी के भीतर चलने वाले सैन्य वाहन शामिल थे. गौरतलब है कि डीआर-8 ड्रोन ध्वनि (Speed of Sound) की गति से भी पांच गुना तेज रफ्तार पर उड़ने में सक्षम है.

यह भी पढ़े: इमरान खान (Imran Khan) के New Pakistan का है बुरा हाल, सेना (Pak Army) खाए मलाई आवाम मरे भूखे

परमाणु क्षमता से लैस पनडुब्बी
चीन की इस परेड को दुनिया के सामने शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा जा रहा है. उसकी अंतरद्विपीय मिसाइलों (Intercontinental Missile) की जद में अमेरिका भी है. 20 लाख से अधिक सैन्य बल से सजी चीन की सेना पीएलए विश्व की सबसे बड़ी सेना है. सैन्य परेड में चीन ने अपने आधुनिक और बेहद शक्तिशाली हथियारों का प्रदर्शन किया. इन हथियारों में फाइटर प्लेन, एयरक्राफ्ट कैरियर, सुपरसोनिक मिसाइल और न्यूक्लियर क्षमता से लैस पनडुब्बियों का प्रदर्शन किया गया. चीन में गृहयुद्ध के बाद 1 अक्टूबर 1949 को माओत्से तुंगने पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की स्थापना की घोषणा की थी.

यह भी पढ़े: मलीहा लोधी को हटाने पर बुरे फंसे इमरान खान, पीपीपी ने पूछ डाला ये बड़ा सवाल

एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम ध्वस्त करेगा डोंगफेंग-17
मंगलवार को हुई हथियारों की प्रदर्शनी में डोंगफेंग-17 (Dongfeng-17) पर सबकी नजर टिक गई है. परमाणु क्षमता से लैस इस ग्लाइडर की गति सोच से परे बताई जा रही है. यानी वजह है कि सैन्य विश्लेषक मान रहे हैं कि अपनी बहुत तेज गति की वजह से डोंगफेंग-17 एंटी-मिसाइल डिफेंस सिस्टम को भी भेद सकता है. वर्षगांठ के आधिकारिक समारोह की शुरुआत 30 सितंबर को हुई थी जब चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) के संस्थापक माओ जेडोंग (Mao Zedong) की संरक्षित रखी गई पार्थिव देह को श्रद्धांजलि दी.

First Published: Oct 01, 2019 03:50:02 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो