BREAKING NEWS
  • IND vs SA: टीम इंडिया के लिए 'निर्दयी' रहा है बेंगलुरू का चिन्नास्वामी स्टेडियम, देखें आंकड़े- Read More »

POK रैली के बाद पाकिस्तान के मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पीएम नरेंद्र मोदी को दी ये चुनौती

आईएएनएस  |   Updated On : September 13, 2019 08:28:00 PM
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शुक्रवार को भारतीय प्रधानमंत्री पीएम नरेंद्र मोदी को चुनौती देते हुए कहा है कि जैसी रैली उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के मुज्जफराबाद में आयोजित की है, वैसी रैली नरेंद्र मोदी जम्मू एवं कश्मीर में कर के दिखाएं. समाचार पत्र डॉन के अनुसार, कुरैशी ने शुक्रवार को मुज्जफराबाद में आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पीओके में लोगों तक खबरों की पहुंच है और यहां इंटरनेट चालू है, मगर जम्मू एवं कश्मीर में प्रतिबंध लागू हैं और संचार के साधन बंद कर दिए गए हैं.

यह भी पढ़ेंःमुजफ्फराबाद में इमरान खान का दिखा बेशर्म चेहरा, जानें 8 बड़ी बातें जिसके जरिए उसने जनता को उकसाया

पीओके के प्रधानमंत्री राजा फारूक हैदर ने पाकिस्तान के लोगों और सरकार को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा, "हम नहीं जानते कि जम्मू एवं कश्मीर में हमारे रिश्तेदार कैसे रह रहे हैं." हैदर ने कहा, "द्विपक्षीय वार्ता में मत उलझो, क्योंकि यह कश्मीर मुद्दे की अहमियत कम करता है." मुज्जफराबाद में आयोजित रैली में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ ही स्थानीय प्रधानमंत्री हैदर, विदेश मंत्री कुरैशी, सीनेटर फैसल जावेद, सूचना मंत्री फिरदौस आशिक, रक्षा मंत्री परवेज खट्टक और रेल मंत्री शेख राशिद हिस्सा ले रहे हैं.

इसके पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इमरान खान ने बुधवार को एक ट्वीट में कहा था, "जम्मू एवं कश्मीर में वहां के सुरक्षाबलों द्वारा लगातार घेराबंदी के बारे में दुनिया को एक संदेश भेजना है. इसके साथ ही कश्मीरियों को दिखाना है कि पाकिस्तान उनके साथ मजबूती के साथ खड़ा है."

यह भी पढ़ेंःकश्मीर मुद्दे पर भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान को दिखाई औकात, कही ये बड़ी बात

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ने अपने देश के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मुजफ्फराबाद का दौरा किया था. इस दौरान उन्होंने पीओके की विधानसभा को भी संबोधित किया था. इसके बाद उन्होंने इस महीने की शुरुआत में रक्षा दिवस के मौके पर पीओके की एक और यात्रा की. इस दौरान उन्होंने नियंत्रण रेखा (एओसी) का भी दौरा किया था. यहां उन्होंने शहीद सैनिकों के परिवारों के साथ ही उन नागरिकों के परिवारों से भी मुलाकात की, जो भारतीय सुरक्षाबलों द्वारा गोलाबारी में मारे गए थे.

First Published: Sep 13, 2019 08:28:00 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो