कश्मीर मामले में पाकिस्तान की निगाह अब इन राष्ट्रों पर, ये बड़ा दांव चल सकते हैं इमरान खान

आईएएनएस  |   Updated On : August 21, 2019 07:36:14 PM
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

कश्मीर मामले में समर्थन हासिल करने के मामले में अंतरराष्ट्रीय जगत में मुंह की खाने के बाद पाकिस्तान ने अपनी निगाहें अब इस्लामी देशों के संगठन ओआईसी (आर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन) पर टिका दी हैं. पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की सूचना एवं प्रसारण मामलों की विशेष सहायक फिरौदस आशिक अवान ने निजी चैनलों से बातचीत में कहा कि ओआईसी की आवाज को फिर से जिंदा करने की कोशिशें की जा रही हैं ताकि 'कश्मीर की आवाज को दबाया नहीं जा सके और वहां हो रहे मानवाधिकार हनन की घटनाएं अधिक प्रभावी तरीके से उठाई जा सकें.'

यह भी पढ़ेंः पाकिस्‍तान जहां चाहे वहां कर लेंगे दो-दो हाथ, ICJ में जाने की खबरों पर बोले सैयद अकबरुद्दीन

उन्होंने एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से गुहार लगाई कि वह 'कश्मीर के हालात का संज्ञान ले. भारत पर अत्याचार को रोकने के लिए और मीडिया व मानवाधिकार संगठनों को घाटी के जमीनी हालात की जानकारी लेने के लिए वहां तक जाने देने के लिए दबाव बनाया जाए. पाकिस्तान इस मामले में मदद कर सकता है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान घरेलू और अंतरराष्ट्रीय, दोनों स्तर पर सुरक्षा चुनौतियों का सामना कर रहा है और सरकार इनसे निपटने के उपाय कर रही है.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तानी पीएम इमरान खान अपनी ही चालों में फंसे, सेना कभी भी कर सकती है तख्तापलट

देश में आतंकवादी संगठनों पर प्रतिबंध के मुद्दे पर अवान ने कहा कि किसी भी संगठन पर प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय दबाव के कारण नहीं लगाया गया है. इन संगठनों को राष्ट्रीय कार्ययोजना के तहत प्रतिबंधित किया गया है. बता दें कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश में विभाजित करने के भारत के ऐतिहासिक फैसले से पाकिस्तान बौखला गया है.

First Published: Aug 21, 2019 07:36:14 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो