BREAKING NEWS
  • देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) का दावा, महाराष्ट्र में बीजेपी जल्द बनाएगी स्थिर सरकार- Read More »
  • महाराष्ट्र में दोबारा चुनाव नहीं चाहते हैं, कांग्रेस के साथ बैठक के बाद लिया जाएगा उचित निर्णय: शरद पवार- Read More »

पाकिस्तान में जेयूआई-एफ से संबद्ध अंसार उल इस्लाम पर प्रतिबंध की तैयारी

NEWS STATE BUREAU  |   Updated On : October 20, 2019 07:53:56 AM
इमरान खान को अंसार उल इस्लाम से लग रहा है डर.

इमरान खान को अंसार उल इस्लाम से लग रहा है डर. (Photo Credit : (फाइल फोटो) )

ख़ास बातें

  •  जमीयत के प्रस्तावित आजादी मार्च से डरे हुए हैं इमरान खान.
  •  अब जमीयत से संबद्ध मिलीशिया फोर्स पर लगेगा प्रतिबंध.
  •  लाठियों से लैस रहने वाले सदस्यों से सरकार को खतरा.

Islamabad:  

पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान को सत्ता से हटाने के लिए आजादी मार्च निकालने का ऐलान करने वाली पार्टी जमीयत-ए-उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) से संबद्ध मिलीशिया अंसार उल इस्लाम पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया गया है. सरकार ने लाठियों से लैस रहने वाली इस 'मिलीशिया फोर्स' को देश की वैधानिक सरकारको चुनौती देने वाला बताया है. पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में यह जानकारी देने के साथ बताया गया है कि अंसार उल इस्लाम के सदस्य पीले रंग की वर्दी में नजर आते हैं. इनके हाथों में लाठियां होती हैं. हाल ही में इन्होंने जेयूआई-एफ नेता मौलाना फजलुर रहमान को गार्ड ऑफ ऑनर दिया था.

यह भी पढ़ेंः जैश के निशाने पर दिल्ली, दिवाली पर बड़े आतंकी हमलों की आशंका; भीड़-भाड़ वाले इलाकों पर नजर

कैबिनेट की रजामंदी ली
पाकिस्तान गृह मंत्रालय ने अंसार उल इस्लाम के खिलाफ कार्रवाई पर संघीय कैबिनेट की रजामंदी ले ली है. अब इस सिलसिले में प्रस्ताव को देश के कानून मंत्रालय और चुनाव आयोग को भेजा गया है. इसमें कहा गया है कि इस वर्दीधारी फोर्स ने पेशावर में कंटीले तारों में लिपटी लाठियों के साथ मार्च निकाला है. इनकी हरकतें देश की सरकार को चुनौती देने वाली हैं. यह फोर्स कानून प्रवर्तन एजेंसियों से टकराने की तैयारी करती नजर आ रही है. सशस्त्र दल के तौर पर इसका गठन संविधान के अनुच्छेद 256 के खिलाफ है, इसलिए इसे प्रतिबंधित किया जाएगा.

यह भी पढ़ेंः हरियाणा-महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव प्रचार थमा, 21 को उम्मीदवारों की किस्मत EVM में होगी बंद

सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी बाकी
इस मामले में संघीय कैबिनेट ने गृह मंत्रालय को प्रांतों से बातचीत का अधिकार दिया है. संविधान के प्रावधानों के तहत संघीय सरकार गृह मंत्रालय के जरिए प्रांतों को अपने स्तर से भी इस संस्था पर कार्रवाई करने का अधिकार देगी. कानून मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्रालय को इसे प्रतिबंधित करने के लिए अधिसूचना जारी करनी होगी. इसके बाद मंत्रालय सुप्रीम कोर्ट को इस अधिसूचना से अवगत कराएगा. सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस पर मुहर लगाए जाने पर संस्था प्रतिबंधित करार दे दी जाएगी.

First Published: Oct 20, 2019 07:53:56 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो