कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 213 हुई, WHO ने वैश्विक आपदा घोषित किया

News State  |   Updated On : January 31, 2020 06:15:51 PM
कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 213 हुई, WHO ने वैश्विक आपदा घोषित किया

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या लगातार रही है बढ़. (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  अकेले हुबेई में हुई 43 मौतों के साथ मृतकों की संख्या 213 पर पहुंच गई है.
  •  कई एयरलाइंस चीन तक विमानों को जाने से रोक रहे हैं या उड़ानें कम कर दी गई हैं.
  •  संक्रमण की चपेट में आने वालों की संख्या 9,692 हो गई है. 1,982 नये मामलों की पुष्टि.

बीजिंग:  

चीन (China) में कोरोना वायरस (Corona Virus) प्रकोप से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 213 पर पहुंच गई है और संक्रमण (Infection) की चपेट में आने वालों की संख्या 9,692 हो गई है. सरकार की तरफ से दी गई जानकारी के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारत समेत दुनिया के एक दर्जन से ज्यादा देशों में फैले खतरनाक कोरोना वायरस को वैश्विक स्वास्थ्य आपदा घोषित कर दिया है. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि प्रकोप का केंद्र माने जा रहे अकेले हुबेई में हुई 43 मौतों के साथ मृतकों की संख्या 213 पर पहुंच गई है. इनमें ज्यादातर बुजुर्ग लोग शामिल हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि 1,982 नये मामलों की पुष्टि हुई है जिससे कुल संख्या 9,692 हो गई है.

यह भी पढ़ेंः निर्भया केसः फिर टली दोषियों की फांसी, अगले आदेश तक पटियाला हाउस कोर्ट ने लगाई रोकजानें कारण

अंतरराष्ट्रीय समन्वय बढ़ाने पर जोर
भारत, ब्रिटेन, अमेरिका, दक्षिण कोरिया, जापान और फ्रांस समेत करीब 20 देशों ने चीन से आने वाले यात्रियों में विषाणु की पुष्टि की है. बृहस्पतिवार को जिनेवा में आपात बैठक बुला कर डब्ल्यूएचओ ने इस प्रकोप को वैश्विक स्वास्थ्य आपदा घोषित किया. यह दुर्लभ स्थिति जिसमें बीमारी से निपटने में अधिक अंतरराष्ट्रीय समन्वय को बढ़ाने के लिए जरूरत पड़ती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख तेदरोस अदहानोम गेब्रेयेसस ने कहा, 'हमारी सबसे बड़ी चिंता विषाणु के उन देशों में फैलने की आशंका को लेकर है जहां स्वास्थ्य तंत्र कमजोर है.' उन्होंने इस वायरस को अंतरराष्ट्रीय चिंता की जन स्वास्थ्य आपदा (PHEIC) घोषित किया.

यह भी पढ़ेंः Viral: क्यों जरूरी है CAA, दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका के राष्ट्रपति ने समझाया पूरा मतलब!

चीन सरकार खासी सतर्क
डब्ल्यूएचओ की घोषणा पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने प्रेस को दिए बयान में कहा, 'कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के बाद से, चीन की सरकार लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी का अहसास करते हुए अधिक समावेशी और कठिन बचाव एवं नियंत्रण कदम उठा रही है.' उन्होंने कहा इनमें से कई कदम अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमों की जरूरत से काफी बेहतर हैं. प्रवक्ता ने कहा, 'हमारे पास इस महामारी से लड़ाई जीतने का पूर्ण विश्वास एवं क्षमता है.' उन्होंने कहा कि साथ ही चीन ने अन्य सभी को सूचित किया और समय रहते पूरे खुलेपन, पारदर्शिता और जिम्मेदार नजरिए के साथ कोरोना वायरस के जीनोम अनुक्रम को साझा किया है.

यह भी पढ़ेंः निर्भया केसः दोषी पवन को सुप्रीम कोर्ट से झटका, खारिज हुई रिव्यू पिटीशन

WHO विशेषज्ञों ने किया वुहान का दौरा
हुआ ने कहा कि चीन डब्ल्यूएचओ के साथ करीब से संपर्क एवं सहयोग में है. उन्होंने कहा, 'डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञों ने हाल ही में वुहान का दौरा किया. महानिदेशक तेदरोस अदहानोम गेब्रेयेसस ने भी चीन का दौरा किया और चीनी पक्ष के साथ 2019-एनसीओवी की रोकथाम एवं खात्मे पर चर्चा की.' शिन्हुआ समाचार एजेंसी ने उनके बयान के हवाले से कहा कि तेदरोस ने कोरोना वायरस से लड़ कर विश्व को दिए गए चीन के योगदान एवं उसके प्रयासों की सरहाना की. हुआ ने कहा कि देश क्षेत्रीय एवं वैश्विक जनस्वास्थ्य सुरक्षा को सुरक्षित रखने के लिए डब्ल्यूएचओ और अन्य देशों के साथ काम करता रहेगा.

यह भी पढ़ेंः Delhi Assembly Election: BJP ने जारी किया विजन डॉक्यूमेंट, जानें 10 प्वाइंट

कई देशों मे विमान सेवाएं कम की
कई एयरलाइंस चीन तक विमानों को जाने से रोक रहे हैं या उड़ानें कम कर दी गई हैं क्योंकि देश घातक कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में संघर्ष कर रहा है. चीन ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह कोरोना वायरस से सर्वाधिक प्रभावित हुबेई प्रांत के निवासियों को विदेश से वापस घर लाने के लिए चार्टर विमान भेजेगा. विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि हुबेई प्रांत के नागरिकों को विदेश में सामने आ रही व्यावहारिक कठिनाइयों के चलते वापस लाया जाएगा. यह कदम चीनी अधिकारियों की उस घोषणा के बाद आया था कि कोरोना वायरस के केंद्र, हुबेई प्रांत और राजधानी वुहान से करीब 50 लाख लोग 23 जनवरी को इस क्षेत्र को आधिकारिक तौर पर बंद किए जाने के बाद से बाहर गए हैं.

First Published: Jan 31, 2020 06:15:51 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो