'मोदी सरकार में राष्ट्रवाद चरम पर, इसकी आड़ में हिंदू राष्ट्र बनाने की तैयारी'

News State  |   Updated On : January 24, 2020 01:07:05 PM
'मोदी सरकार में राष्ट्रवाद चरम पर, इसकी आड़ में हिंदू राष्ट्र बनाने की तैयारी'

खरबपति दानवीर जॉर्ज सोरोस दुनिया के भविष्य को लेकर चिंतित. (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  अमेरिका के खरबपति दानवीर जॉर्ज सोरोस का मोदी, ट्रंप और जिनपिंग पर हमला.
  •  दुनिया में 'वास्तविक तानाशाह' और 'भविष्य के तानाशाह' शासन कर रहे हैं.
  •  मोदी ने करोड़ों मुसलमानों से नागरिकता छीनने की धमकी दी हुई है.

दावोस.:  

अमेरिका के खरबपति दानवीर जॉर्ज सोरोस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला बोला है. दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के मंच से बोलते हुए उन्होंने न सिर्फ मोदी बल्कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग पर भी तीखे तंज कसे. उनका कहना है कि इस वक्त दुनिया में 'वास्तविक तानाशाह' और 'भविष्य के तानाशाह' शासन कर रहे हैं. मानवता और मानवीय संवेदनाएं एक खतरनाक मोड़ पर हैं. आने वाला वक्त ट्रंप-जिनपिंग समेत समग्र दुनिया के भाग्य का फैसला करेगा.

यह भी पढ़ेंः चुनाव आयोग ने सीधे टि्वटर से कहा- बीजेपी उम्‍मीदवार कपिल मिश्रा का ट्वीट डिलीट करो

करोड़ों मुसलमानों से नागरिकता छीनने की धमकी
उन्होंने कहा कि भारत की अगर बात करें तो लोकतांत्रिक तरीके से चुनकर आए नरेंद्र मोदी देश को हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं. मुसलमानों के लिए अर्ध स्वायत्त कश्मीर पर मोदी दंडात्मक कार्रवाई कर रहे हैं. मोदी ने करोड़ों मुसलमानों से नागरिकता छीनने की धमकी दी हुई है. यह सब राष्ट्रवाद के नाम पर हो रहा है. भारत में राष्ट्रवाद का मसला एक ऐसे मुकाम पर जा पहुंचा है, जहां से उसका पीछे लौटना फिलहाल बहुत मुश्किल है.

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस लीडर मनीष तिवारी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, शहीद भगत सिंह को भारत रत्न देने की मांग

ट्रंप एक धोखेबाज आत्ममुग्ध शख्सियत
इसके साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करते हुए जॉर्ज सोरेस ने कहा ट्रंप एक धोखेबाज शख्सियत है, जो हद दर्जे तक आत्ममुग्ध है. वह चाहता है कि दुनिया उसके इर्द-गिर्द घूमे. राष्ट्रपति बनने का उसका ख्वाब पूरा हो गया है और अब उसकी आत्ममुग्धता एक रोग में बदल चुकी है. अमेरिका-चीन संबंधों पर कटाक्ष करते हुए सोरेस ने कहा, 'ट्रंप अपने निजी हितों के लिए राष्ट्रीय हितों का त्याग करने पर अमादा है. दोबारा चुनाव जीतने के लिए वह कुछ भी करने को तैयार है. इसके उलट शी जिनपिंग ट्रंप की कमजोरी का जमकर लाभ उठाना चाहते हैं. चीनी राष्ट्रपति आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का उपयोग कर अपने ही लोगों पर निय़ंत्रण स्थापित करना चाहते हैं.'

First Published: Jan 24, 2020 01:07:05 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो