BREAKING NEWS
  • झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Elections 2019) में कुल 18 रैलियों को संबोधित करेंगें गृहमंत्री अमित शाह- Read More »
  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने खोया आपा, प्रदर्शनकारियों पर भड़के, कही ये बड़ी बात - Read More »
  • आयकर ट्रिब्यूनल ने गांधी परिवार को दिया झटका, यंग इंडिया को चैरिटेबल ट्रस्ट बनाने की अर्जी खारिज- Read More »

पाकिस्तान: 562 तीर्थयात्रियों ने पहले दिन करतारपुर स्थित दरबार साहिब में मत्था टेका

Bhasha  |   Updated On : November 09, 2019 11:24:52 PM
पाकिस्तान में सिख श्रद्धालुओं ने टेका माथा

पाकिस्तान में सिख श्रद्धालुओं ने टेका माथा (Photo Credit : ANI )

दिल्ली:  

पाकिस्तान में करतारपुर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब में पहले दिन भारत से आए 562 तीर्थयात्रियों ने मत्था टेका. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। करतारपुर गलियारा भारत में पंजाब के गुरदासपुर जिले स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे को पाकिस्तान के करतारपुर स्थित दरबार साहिब गुरुद्वारे से जोड़ता है. चार किमी लंबे इस गलियारे का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया.

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि गुरुद्वारा दरबार साहिब में पहले दिन जाने वाले जत्थे में कुल 562 श्रद्धालु शामिल थे. भारत और पाकिस्तान के बीच हुए समझौते के अनुसार सभी तीर्थयात्री पाकिस्तान के नरोवाल जिले में स्थित गुरुद्वारे में मत्था टेकने के बाद भारत लौट आए.

बता दें कि पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को करतारपुर गलियारे के उद्घाटन को ऐतिहासिक कदम बताते हुए इसके लिये भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का शुक्रिया अदा किया और कहा कि करतारपुर गलियारे का उद्घाटन विभाजन के दौरान कत्लेआम देख चुके लोगों के जख्मों पर मरहम के समान है. सिद्धू ने करतारपुर गलियारे के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित किया और कहा कोई भी इस गलियारे के खुलने को संभव बनाने में ‘‘मेरे दोस्त’’ इमरान खान के योगदान से इनकार नहीं कर सकता है.

उन्होंने कहा, ‘‘इमरान खान ने इतिहास रचा है.’’ खान को दिलों का बादशाह बताते हुए सिद्धू ने कहा, ‘‘सिकंदर ने डर दिखाकर दुनिया जीती और आपने दुनियाभर का दिल जीता है.’’ पूर्व भारतीय क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने ‘‘बगैर नफा या नुकसान देखे’’ करतारपुर गलियारा बनाने का साहसिक कदम उठाने के लिये पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा, ‘‘दोनों ओर के पंजाब ने विभाजन के दौरान कत्लेआम देखा है.

आप और (नरेंद्र) मोदी ने (इस पहल के जरिये) लोगों के जख्मों पर मरहम लगाने का काम किया है.’’ सिद्धू ने शेरो-शायरी के अंदाज में खान की दोस्ती और नेतृत्व के लिये उनकी तारीफ की. उन्होंने कहा कि खान पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने नि:स्वार्थ भाव से यह पहल की. उन्होंने कहा, ‘‘विभाजन के बाद यह पहली बार है जब सरहदें खत्म हो गयी हैं. कोई भी मेरे दोस्त खान के योगदान से इनकार नहीं कर सकता है. इसके लिये मैं मोदी जी का भी शुक्रिया अदा करता हूं.’’ उन्होंने कहा कि 10 महीने के भीतर गलियारे का बनकर तैयार हो जाना किसी चमत्कार से कम नहीं है. यह जन्नत आने के समान है. उन्होंने सिख समुदाय के सपनों को साकार करने के लिये प्रधानमंत्री मोदी का भी शुक्रिया अदा किया.

सिद्धू ने चर्चित भारतीय फिल्म मुन्ना भाई एमबीबीएस का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘मैं मोदी जी का भी शुक्रिया अदा करता हूं, यह मायने नहीं रखता कि हमारे बीच राजनीतिक मतभेद हैं, इससे फर्क नहीं पड़ता कि मेरा जीवन गांधी परिवार के लिये समर्पित है. मैं मुन्नाभाई के अंदाज में इसके लिये मोदी साहब को झप्पी देना चाहता हूं.’’ पिछले साल अगस्त में खान के शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को गले लगाने के लिये अपनी आलोचना पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि गले लगाना काम कर गया है. उन्होंने व्यापार के लिये भारत-पाकिस्तान सीमा को खोलने का आह्वान करते हुए कहा, ‘‘ये दिल मांगे मोर.’’ उन्होंने कहा कि सरहद खोल देने चाहिए ताकि लोग पंजाब (भारत) में ‘मक्की की रोटी’ खा सकें और वहां से कारोबार कर लौटते वक्त लाहौर में बिरयानी खा सकें.

First Published: Nov 09, 2019 11:24:52 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो