BREAKING NEWS
  • विराट कोहली की जुबानी सुनें टीम के ड्रेसिंग रूम की कहानी- Read More »
  • 74 साल के हुए अजीम प्रेमजी, 53 साल में 12 हजार गुना बढ़ाया विप्रो का कारोबार- Read More »
  • 1 कुत्ता आपको बना सकता है धनवान, सावन में बस आपको करना होगा यह काम- Read More »

म्यांमार सेना ने गांवों पर बरसाए बम, मानवीय सहायता भी रोकी: एमनेस्टी इंटरनेशनल

IANS  |   Updated On : February 11, 2019 06:20 PM
म्यांमार सेना (फाइल फोटो)

म्यांमार सेना (फाइल फोटो)

यंगून:  

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने सोमवार को कहा कि म्यांमार सेना ने संकटग्रस्त रखाइन राज्य में विद्रोहियों को निशाना बनाकर की गई कार्रवाई के बीच गांवों पर बम बरसाए हैं और नागरिकों को भोजन व मानवीय सहायता बाधित कर दी है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, गैर लाभकारी संस्था ने अपनी हालिया रिपोर्ट में कहा है कि 4 जनवरी को शुरू हुई वीभत्स कार्रवाई के हिस्से के रूप में सैनिकों ने नागरिकों को हिरासत में लेने के लिए अस्पष्ट और दमनकारी कानूनों का भी इस्तेमाल किया. अराकन सेना विद्रोहियों द्वारा पुलिस थानों व 13 अधिकारियों को मार डालने के बाद सेना ने कार्रवाई शुरू की थी.

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, विद्रोहियों को जड़ से मिटाने के लिए सेना द्वारा अभियान शुरू करने के बाद कम से कम 5,200 लोग लड़ाई से विस्थापित हुए हैं. सरकार ने इन विद्रोहियों को आतंकी करार दिया है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल की क्राइसिस रेस्पॉन्स की निदेशक त्रिराना हसन ने कहा, 'यह नया अभियान एक और चेतावनी है कि म्यांमार सेना को मानवाधिकारों की कोई परवाह नहीं है. गांवों पर बमबारी और किसी भी स्थिति में खाद्य आपूर्ति को रोकना अनुचित है.'

हसन ने म्यांमार प्रशासन पर नागरिकों की जिंदगियों और आजीविका के साथ जानबूझकर खेलने का आरोप लगाया.

मानवाधिकार समूह के मुताबिक, अधिकारियों ने रेड क्रॉस और संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम को छोड़कर अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा पांच जिलों के लिए भेजी जानी वाली मानवीय सहायता के प्रवेश पर रोक लगा दी है. इन पांच जिलों में अभी भी संघर्ष जारी है.

और पढ़ें : IMF ने वैश्विक आर्थिक दर को लेकर किया आगाह, कहा- कभी भी उठ सकता है 'तूफान'

एक प्रत्यक्षदर्शी ने एमनेस्टी को बताया कि सेना ने चावल जैसी जरूरती चीज की बिक्री और खरीद पर भी रोक लगा दी है.

एमनेस्टी ने कहा कि कम से कम 26 लोगों को अराकन सेना के साथ अवैध रूप से जुड़े होने के लिए गिरफ्तार किया गया है. इस जुर्म के लिए कठोर कारावास की सजा है.

First Published: Monday, February 11, 2019 06:17 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Myanmar Army, Amnesty International, Rakhine State, Rohingyas, Shelling, Myanmar, Human Rights, Hindi News,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

अन्य ख़बरें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो