पाकिस्तान को झटका, भारत की मदद से शुरू हुआ चाबहार बंदरगाह

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने रविवार को देश के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित चाबहार नगर के शाहिद बहेश्ती बंदरगाह के प्रथम चरण का उद्घाटन किया।

News State Bureau  |   Updated On : December 04, 2017 12:15 AM
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (फोटो- @HassanRouhani)

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (फोटो- @HassanRouhani)

तेहरान:  

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने रविवार को देश के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित चाबहार नगर के शाहिद बहेश्ती बंदरगाह के प्रथम चरण का उद्घाटन किया।

चाबहार बंदरगाह खुलने के बाद भारत के लिए अब पाकिस्तान के बाहर से ईरान और अफगानिस्तान तक जल परिवहन का मार्ग सुगम हो गया है। यह जलमार्ग भारत, ईरान और अफगानिस्तान के मध्य नया रणनीतिक जल मार्ग होगा।

इस्लामिक रिपब्लिक न्यूज एजेंसी (आईआरएनए) के मुताबिक ईरान के दक्षिण-पूर्व में सिस्तान-बलूचिस्तान प्रांत स्थित बंदरगाह के उद्घाटन समारोह में 17 देशों के 60 विदेशी मेहमानों ने शिरकत की थी।

चाबहार बंदरगाह का शुरू हो जाना हमारे पडो़सी देश पाकिस्तान के रणनीतिक तौर पर बड़ा झटका है क्योंकि इस चाबहार की वजह से बंदरगाह की क्षमता तीन गुणा बढ़ जाएगी। पाकिस्तान में बन रही ग्वादर बंदरगाह के लिए यह एक बड़ी चुनौती बनेगा। ग्वादर बंदरगाह का निर्माण चीन कर रहा है।

ओमान सागर में अवस्थित यह बंदरगाह प्रांत की राजधानी जाहेदान से 645 किलोमीटर दूर है और मध्य एशिया व अफगानिस्तान को सिस्तान-बलूचिस्तान से जोड़ने वाला एक मात्र बंदरगाह है।

रूहानी ने कहा, 'हम इस बात से प्रसन्न हैं कि अफगानिस्तान को गेहूं की पहली खेप ईरान से होकर गई है।' राष्ट्रपति ने कहा कि शाहिद बहेश्ती बंदरगाह प्रांत के लिए एक नया विकास का चरण है। इस बंदरगाह की क्षमता 85 लाख टन है।

इसे भी पढ़ेंः बलोचिस्तान के ग्वादर पोर्ट पर ग्रेनेड हमला, घबराए पाक ने चीन को दिया सुरक्षा का भरोसा

गौरतलब है कि भारत ने अफगानिस्तान को 40 हजार टन गेहूं भेजा है जिसका शिपमेंट ईरान से होकर हुआ है।

इस बंदरगाह के उद्घाटन से पूर्व शनिवार को भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अचानक ईरान पहुंची और वहां अपने समकक्ष जावेद जरीफ से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच अन्य मसलों के साथ-साथ चाहबहार बंदरगाह परियोजना को लेकर भी बातचीत हुई।

इसे भी पढ़ेंः ग्वादर बंदरगाह पर चीनी सेना को पाकिस्तान करेगा तैनात, भारत के लिए चिंता का विषय

जरीफ ने कहा कि इस बंदरगाह से ईरान और भारत के बीच आपसी सहयोग में मजबूती आएगी। उन्होंने क्षेत्र के विकास में इस बंदरगाह की अहमियत और ओमान सागर और हिंद महासागर क जरिये मध्य एशिया के देशों को दुनिया के अन्य देशों से जोड़ने वाले इस मार्ग के बारे में बताया।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

First Published: Sunday, December 03, 2017 08:12 PM

RELATED TAG: Chabahar Port, Iran, Hassan Rouhani, Pakistan, Gwadar Port, India,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो