बंगाल: दो विस्फोट के बाद पहाड़ी इलाके के थाने हाई अलर्ट पर, पुलिस को नए तरह के हथियार दिए गए

दार्जिलिंग और कालिम्पोंग में पिछले 24 घंटों में दो बड़े बम विस्फोटों के बाद उत्तरी पश्चिम बंगाल की पहाड़ियों के सभी पुलिस थानों को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है।

  |   Updated On : August 20, 2017 07:57 PM
दार्जिलिंग पहाड़ियों में पुलिस स्टेशन हाई अलर्ट पर (फाइल फोटो)

दार्जिलिंग पहाड़ियों में पुलिस स्टेशन हाई अलर्ट पर (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  कालिम्पोंग की सभी सरकारी संपत्तियों के 100 मीटर के दायरे में धारा 144 लगाई गई है
  •  जीजेएम के अध्यक्ष बिमल गुरुंग सहित मोर्चे के तीन नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई
  •  जीजेएम नेता स्वराज थापा ने विस्फोटों की निंदा करते हुए जांच एजेंसियों से जांच करवाने की मांग की

नई दिल्ली:  

दार्जिलिंग और कालिम्पोंग में पिछले 24 घंटों में दो बड़े बम विस्फोटों के बाद उत्तरी पश्चिम बंगाल की पहाड़ियों के सभी पुलिस थानों को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी।

कालिम्पोंग के पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह यादव ने बताया, 'सभी पुलिस स्टेशनों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। संघर्ष प्रभावित इलाकों में सुरक्षा बलों द्वारा वही रणनीति अपनाई जा रही है, जो विद्रोहियों से निपटने के लिए अपनाई जाती है। पुलिस को नए प्रकार के हथियार दिए गए हैं।'

शनिवार रात कालिम्पोंग पुलिस स्टेशन के बाहर एक विस्फोट में नागरिक स्वयंसेवक राकेश रावत की मौत हो गई थी और होमगार्ड का एक व सीमा सशस्त्र बल (एसएसबी) का एक जवान घायल हो गया था।

यह विस्फोट दार्जिलिंग शहर में हुए विस्फोट के 24 घंटे से भी कम समय में हुआ, जिससे कुछ दुकानों को क्षति पहुंची थी और तनाव बढ़ गया था।

अधिकारी ने कहा, 'कालिम्पोंग में उच्च तीव्रता वाले विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया था।'

कालिम्पोंग के जिलाधिकारी विश्वनाथ ने बताया, '10 अगस्त से 10 सितंबर तक कालिम्पोंग की सभी सरकारी संपत्तियों के 100 मीटर के दायरे में धारा 144 लगाई गई है। पुलिस ने भी विस्फोट के बाद अतिरिक्त सुरक्षा कदम उठाए हैं।'

और पढ़ें: शेख हसीना की हत्या की कोशिश के मामले में 10 को मौत की सजा

पर्यटन मंत्री गौतम देव ने भी बम धमाकों की निंदा की और दावा किया कि विस्फोटक देश के बाहर से लाए गए थे।

उन्होंने कहा कि सभी को राजनीतिक मतभेदों को अलग रखना चाहिए और उत्तर बंगाल की पहाड़ियों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक साथ आना चाहिए, जो पड़ोसी देशों के पास स्थित है।

दोनों विस्फोट गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) द्वारा पृथक गोरखालैंड की मांग के साथ किए जा रहे अनिश्चितकालीन बंद के 69वें दिन हुआ।

पुलिस ने कहा कि दार्जिलिंग में विस्फोट एक इम्प्रोवाइज्ड विस्फोटक उपकरण (आईईडी) से हुआ था और जिसके कारण इसका प्रभाव व्यापक क्षेत्र में महसूस किया गया। इस विस्फोट को लेकर जीजेएम के अध्यक्ष बिमल गुरुंग सहित मोर्चे के तीन नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

और पढ़ें: आईआईटी खड़गपुर ने प्रोफेसर राजीव कुमार का इस्तीफा स्वीकार किया

जीजेएम नेतृत्व ने हालांकि इन आरोपों को खारिज करते हुए दावा किया कि यह विस्फोट उन्होंने किया है जो गोरखालैंड नहीं बनने देना चाहते हैं। जीजेएम ने रविवार को कालिम्पोंग पुलिस थाने के बाहर की टेलीविजन फुटेज को सार्वजनिक करने की मांग की।

जीजेएम नेता स्वराज थापा ने कहा, 'हम विस्फोटों की निंदा करते हैं। जांच एजेंसियों को इन घटनाओं की गहनता से जांच करनी चाहिए। हम यह भी मांग करते हैं कि कालिम्पोंग पुलिस स्टेशन से सीसीटीवी फुटेज को सार्वजनिक किया जाए ताकि सभी को पता चले कि क्या हुआ था।'

गुंरग ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से विस्फोट की जांच के लिए सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में उच्च स्तरीय जांच समिति गठित किए जाने की मांग की है, जिसमें राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) भी शामिल हो।

और पढ़ें: पश्चिम बंगाल बाढ़: पूर्व रेलवे हावड़ा- रायगंज के बीच विशेष ट्रेन चलाएगी

First Published: Sunday, August 20, 2017 07:22 PM

RELATED TAG: West Bengal, Darjeeling, Kalimpong, Gorkha Janmukti Morcha, Gjm, Bengal Hills On High Alert, Gorkhaland Movement,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो