Madhya pradesh: बयान, लेटर और ट्वीट की राजनीति, कौन बना सीएम कमलनाथ की मुसीबत

Sep 05, 2019 | 01:45 PM

मध्य प्रदेश की राजनीति में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. कांग्रेस जहां एक तरफ गुटबाजी से ग्रस्त है, वहीं उसके पास पूर्ण बहुमत से दो विधायक कम होने की वजह से सरकार बचाने की चुनौती भी है. बसपा-2, सपा-1 और चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से कमलनाथ सरकार के पास 121 विधायकों का समर्थन हासिल है. बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक सरकार से जब-तब नाखुशी जाहिर करते रहे हैं. ऐसे में भाजपा (108) इनको अपने पाले में लाकर विधायकों की संख्या 115 तक पहुंचाने की जुगत में है और वर्तमान में 229 सीटों की विधानसभा में भाजपा के पास बहुमत होगा. एक सीट पर उपचुनाव होना बाकी है. मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गैर कांग्रेसी विधायकों के समर्थन से चल रही है और इन विधायकों पर भाजपा की नजर है, ताकि वह विषम हालात में कांग्रेस की सरकार को नुकसान पहुंचा सके. कमलनाथ सरकार के पास पूर्ण बहुमत से दो विधायकों का आंकड़ा कम है.

Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

फोटो