BREAKING NEWS
  • युवाओं के मन की बात कार्यक्रम में पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ, बेबाकी से दिया छात्रों के सवालों का जवाब, पढ़ें क्या थे सवाल- Read More »
  • LIVE: पुलवामा हमले से पाकिस्तान ने झाड़ा पल्ला, उल्टे भारत पर लगाए आतंकवाद फैलाने के आरोप- Read More »
  • देवबंद से गिरफ्तार आतंकी शाहनवाज हुसैन तेली को ग्रेनेड बनाने में हासिल है महारत- Read More »

देवरिया शेल्टर होम केस: एसपी हटाए गए, पुलिस अफसरों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू

News State Bureau  |   Updated On : August 15, 2018 07:54 PM
सीएम योगी आदित्यनाथ (ट्विटर)

सीएम योगी आदित्यनाथ (ट्विटर)

यूपी:  

देवरिया शेल्टर होम मामले में योगी सरकार ने पुलिस अफसरों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। देवरिया के वर्तमान एसपी रोहन पी. कनय को बुधवार को हटाते हुए उन्हें डीजीपी कार्यालय से सम्बद्ध कर दिया गया। इसके साथ ही उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई है। वहीं, देवरिया के पूर्व एसपी राकेश शंकर का भी तबादला कर दिया गया है। इनके अलावा सीओ सदर दयाराम सिंह गौड़ पर भी कार्रवाई की गई है। उनका तबादला कर जांच शुरू कर दी गई है।

इसके अलावा जिला प्रोबेशन अधिकारी के दर्ज कराए मुकदमे में लापरवाही व शिथिलता बरतने पर थाना प्रभारी और विवेचक को भी सस्पेंड कर दिया गया है।

बता दें कि देवरिया बालिका गृह यौन शोषण मामले में पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठाए गए थे, जिसके बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर एडीजी गोरखपुर दावा शेरपा को जांच का जिम्मा सौंपा गया था। एडीजी ने पड़ताल पूरी कर शासन को रिपोर्ट सौंपी थी। इसी रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की गई है।

ये भी पढ़ें: केरल में बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 47, कोच्चि एयरपोर्ट शनिवार तक बंद, पूरे राज्य में रेड अलर्ट जारी

इस मामले पर हाई कोर्ट हुई सख्त

इस केस में सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने एसआईटी जांच पर कई सवाल उठाए थे। चीफ जस्टिस डीबी भोसले और जस्टिस यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने असंतोष जाहिर करते हुए कहा था कि पुलिस को शेल्टर होम के स्टाफ, पड़ोसियों, लड़कियों को लाने-ले जाने वाली कारों के ड्राइवरों का पता लगाकर बयान दर्ज करने चाहिए थे।

हाई कोर्ट की सख्ती के बाद ही योगी सरकार ने पुलिस अफसरों पर कार्रवाई शुरू की है।

गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड की तरह ही उत्तर प्रदेश के देवरिया में बालिका संरक्षण गृह में भी देह व्यापार कराए जाने का खुलासा हुआ था। संरक्षण गृह से भागी एक लड़की ने इस बात की जानकारी दी थी। इसकी खबर मिलते ही जब रात में पुलिस ने छापा मारा तो वहां से 18 लड़कियां गायब मिलीं।

ये भी पढ़ें: आशुतोष के इस्तीफे पर बोले अरविंद केजरीवाल, आपसे प्यार करते हैं कैसे करें मंजूर

सीएम ने लिया मामले का संज्ञान

यह मामला सामने आने के बाद संचालिका और उसके पति को गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं, सीएम ने जिले के डीएम सुजीत कुमार को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दे दिए। जिले के पूर्व डीपीओ की लापरवाही देखते हुए उन्हें भी सस्पेंड कर दिया गया। पूर्व प्रभारी जिला प्रोबेशन अधिकारी नीरज कुमार और अनूप सिंह के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए गए थे।

रद्द की जा चुकी थी बालिका गृह की मान्यता

पुलिस के मुताबिक, इस एनजीओ की सूची में 42 लड़कियों का नाम दर्ज था, लेकिन छापेमारी के दौरान मौके पर केवल 24 लड़कियां मिली थीं। साल 2017 में इस बालिका गृह की जांच हुई थी। इस दौरान एनजीओ में अनियमितता पाई गई थी, जिसके बाद इसकी मान्यता को रद्द कर दिया गया था।

सफेद-काले रंग की कारों से आते थे लोग!

शेल्टर होम से भागी बच्ची ने पुलिस को बताया कि वहां सफेद और काले रंग की कारों में लोग आते थे। मैडम के साथ लड़कियां लेकर जाते थे, वो देर रात रोते हुए लौटा करती थीं। 

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस फूल का किया जिक्र, 12 साल में खिलता है एक बार, जानें उसकी खासियत

बिहार में बालिका गृह में लड़कियों के साथ हुआ रेप

बता दें कि इसके पहले बिहार के मुजफ्फरपुर में बालिका गृह की 34 लड़कियों के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आ चुका है। मामले की सीबीआई जांच चल रही है। वहीं, इस कांड को लेकर सियासत भी गर्म है।

First Published: Wednesday, August 15, 2018 07:43 PM

RELATED TAG: Deoria Shelter Home Case, Cm Yogi Adityanath,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो