BREAKING NEWS
  • गजब : इस भारतीय बल्‍लेबाज ने 39 गेंदों में जड़ दिया शतक, 15 रन देकर आठ विकेट- Read More »
  • Daily History Update: आज के दिन ही प्लूटो को ग्रह का दर्जा मिला था, जानिए 24 अगस्त का इतिहास- Read More »
  • पिछले एक साल में अमेरिकी डॉलर के सामने पाकिस्तानी रुपया (Pakistani Rupee) 25 फीसद तक नीचे गिर चुका है.- Read More »

खुशखबरी, अक्टूबर से ट्रेनों में रोजाना 4 लाख से अधिक सीटें बढ़ेंगी, जानिए क्या है वजह

PTI  |   Updated On : July 11, 2019 07:13 AM
भारतीय रेलवे (Indian Railway)

भारतीय रेलवे (Indian Railway)

नई दिल्ली:  

Indian Railway: यात्रियों के लिए आने वाले समय में रेल का आरक्षित टिकट अपेक्षाकृत आसानी से सुलभ हो सकता है. रेलवे ऐसे उपाय करने जा रही है, जिनसे अक्टूबर से गाड़ियों में आरक्षित यात्रा के लिए रोजाना 4 लाख से अधिक सीटें (बर्थ) बढ़ेंगी. इसके लिए रेल विभाग ऐसी प्रौद्योगिकी अपनाने जा रहा है, जिससे डिब्बों में रोशनी और एयर कंडीशन के लिए बिजली को लेकर अलग से पावर कार (जनरेटर डिब्बा) लगाने की जरूरत नहीं होगी और यह जरूरत इंजन के माध्यम से ही पूरी हो जाएगी.

यह भी पढ़ें: Sovereign Gold Bond Scheme: नरेंद्र मोदी सरकार की इस स्कीम से सस्ते में सोना खरीदने का सुनहरा मौका

हेड ऑन जेनरेशन (HOG) का होगा इस्तेमाल
फिलहाल लिंक हाफमैन बुश (एलएचबी) डिब्बों वाली प्रत्येक रेलगाड़ी में एक से दो जेनरेटर बोगी लगी होती है. इन्हीं डीजल जेनरेटर बोगियों से सभी डिब्बों को बिजली की आपूर्ति की जाती है. इसे ‘ऐंड ऑन जनरेशन’ (ईओजी) प्रौद्योगिकी के तौर पर जाना जाता है. रेलवे अधिकारियों के मुताबिक जल्द ही विभाग दुनियाभर में प्रचलित ‘हेड ऑन जेनरेशन’ (एचओजी) प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल शुरू करने जा रहा है. इस प्रौद्योगिकी में रेलगाड़ी के ऊपर से जाने वाली बिजली तारों से ही डिब्बों के लिए भी बिजली ली जाती है.

यह भी पढ़ें: Savings Account पर कौन सा बैंक दे रहा है सबसे ज्यादा ब्याज, देखें टॉप 15 लिस्ट

5,000 डिब्बे होंगे परिचालित
रेलवे अधिकारियों ने बताया कि अक्टूबर 2019 से भारतीय रेल के करीब 5,000 डिब्बे एचओजी प्रौद्योगिकी से परिचालित होने लगेंगे. इससे ट्रेनों से जनरेटर बोगियों को हटाने में मदद मिलेगी और उनमें अतिरिक्त डिब्बे लगाने की सहूलियत भी मिलेगी. इतना ही नहीं, इससे रेलवे की ईंधन पर सालाना 6,000 करोड़ रुपये से अधिक की बचत होगी.

सिर्फ एक गैर-वातानुकूलित डिब्बे को बिजली आपूर्ति करने के लिए प्रति घंटा 120 यूनिट बिजली की जरूरत होती है. इतनी बिजली पैदा करने के लिए जनरेटर प्रति घंटा 40 लीटर डीजल की खपत करता है. वहीं वातानुकूलित डिब्बे के लिए ईंधन का यही खपत बढ़कर 65 से 70 लीटर डीजल प्रति घंटा हो जाती है.

First Published: Wednesday, July 10, 2019 10:56:52 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Indian Railway, Irctc, Train, Railway, Transport, Utility, Commonmanissue, Latest News, News In Hindi,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो