नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पश्चिम बंगाल में प्रदर्शन जारी, कई ट्रेनें रद्द

Bhasha  |   Updated On : December 16, 2019 10:22:25 AM
नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पश्चिम बंगाल में प्रदर्शन जारी, कई ट्रे

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पश्चिम बंगाल में प्रदर्शन जारी, कई ट्रे (Photo Credit : ANI Twitter )

कोलकाता:  

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन सोमवार को चौथे दिन भी जारी रहा. राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में सड़क और रेल मार्ग बाधित करने की खबरें हैं. पूर्वी मिदनापुर और मुर्शिदाबाज जिलों में सुबह से ही प्रदर्शनकारियों ने रास्ते बंद कर दिए हैं, जिससे राहगीरों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. प्रदर्शनों की वजह से कई ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं या विलंब से चल रही हैं. रेलवे के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने सियालदह-डायमंड हार्बर और सियालदह-नमखाना सेक्टर में पटरियों को जाम कर दिया है.

यह भी पढ़ें : राहुल गांधी के 'रेप इन इंडिया' वाले बयान पर EC ने झारखंड मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मांगा जवाब

उन्होंने बताया कि भीड़ को तितर-बितर करने का प्रयास किया जा रहा है. मालदा, उत्तर दिनाजपुर, मुर्शिदाबाद, हावड़ा, उत्तर 24 परगना और दक्षिण 24 परगना जिलों में इंटरनेट सेवाएं निलंबित हैं. रविवार रात में उलुबेरिया पुलिस थाने के प्रभारी समेत कुछ पुलिसकर्मी प्रदर्शनकारियों के हमलों में घायल हो गए हैं. जिला अधिकारियों ने बताया कि उन्हें निकट के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. नदिया और बीरभूम जिलों में हिंसा, लूट-पाट और आगजनी की घटनाएं सामने आई है.

राज्य के भाजपा महासचिव सयानतन बसु ने तृणमूल कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया है कि वह बिगड़ती कानून-व्यवस्था को संभालने के लिए ठीक तरह से प्रयास नहीं कर रही है. वहीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि संशोधित कानून बंगाल में लागू नहीं होगा. बनर्जी लगातार राष्ट्रीय नागरिक पंजी और नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करती रही हैं.

यह भी पढ़ें : जामिया विश्‍वविद्यालय 5 जनवरी तक बंद, सर्दी में एक छात्र ने कपड़े उतारकर किया प्रदर्शन

उधर, असम से मिल रही खबरों के अनुसार, गुवाहाटी में दो और लोग गोली लगने से मारे गए जिससे पुलिस गोलीबारी में मरने वालों की संख्या चार हो गई है. दूसरी ओर, प्रदर्शनकारियों का दावा है कि पांच लोग मारे गए हैं. उधर, असम साहित्य सभा ने भी इस कानून के खिलाफ शीर्ष अदालत का रुख करने का फैसला किया है. पुलिस ने बताया कि राज्य भर में 175 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 1406 लोगों को एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया गया है.

असम में इंटरनेट सेवाएं आज सुबह तक स्थगित रहीं. राज्‍य के 10 जिलों लखीमपुर, तिनसुकिया, धेमाजी, डिब्रूगढ़, चराइदेव, शिवसागर, जोरहाट, गोलाघाट, कामरूप (मेट्रो) और कामरूप में अगले 24 घंटों के लिए इंटरनेट सेवाएं स्‍थगित कर दी गई हैं.

First Published: Dec 16, 2019 10:22:25 AM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो