बंगाली फिल्मों के अभिनेता और तृणमूल कांग्रेस के सांसद रहे तपस पाल का निधन

IANS  |   Updated On : February 18, 2020 09:05:30 AM
बंगाली फिल्मों के अभिनेता और तृणमूल कांग्रेस के सांसद रहे तपस पाल का निधन

बंगाली फिल्मों के अभिनेता और तृणमूल कांग्रेस के सांसद तपस पाल का निधन (Photo Credit : File Photo )

नई दिल्‍ली :  

बंगाली फिल्मों के जाने माने अभिनेता एवं तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद तपस पॉल का मंगलवार तड़के दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वह 61 साल के थे. परिवारिक सूत्रों ने बताया कि पॉल अपनी बेटी से मिलने मुम्बई गए थे. कोलकाता लौटते समय मुम्बई हवाई अड्डे पर उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत की जिसके बाद उन्हें जुहू के एक अस्पताल ले जाया गया, जहां मंगलवार तड़के करीब चार बजे उनका निधन हो गया. उन्हें हृदय संबंधी बीमारियां थीं और पिछले दो साल से लगातार उनका इलाज चल रहा था. तपस पॉल शारदा चिट फंड मामले में वह आरोपी थे और कुछ समय के लिए जेल भी गए थे.

यह भी पढ़ें : गुजरात में लड़कियों के मासिक धर्म की जबरन जांच में प्रधानाचार्य, रेक्टर समेत चार गिरफ्तार

पॉल कृष्णानगर से दो बार सांसद और अलीपुर से विधायक रह चुके हैं. उनके परिवार में पत्नी और एक बेटी है. सीबीआई ने 2016 में रोज़ वैली चिटफंड मामले में उन्हें गिरफ्तार किया था और करीब 13 महीने बाद उन्हें जमानत मिली थी. इसके बाद से ही उन्होंने फिल्मों से दूरी बना ली थी. उन्होंने ‘साहेब’ (1981), ‘परबत प्रिया’ (1984), ‘भालोबाशा भालोबाशा’ (1985), ‘अनुरागर चोयन’ (1986) और ‘अमर बंधन’ (1986) जैसी कई हिट फिल्में दी. फिल्म ‘साहेब’ (1981) के लिए उन्हें ‘फिल्मफेयर’ पुरस्कार भी मिला था.

कई बॉलीवुड फिल्मों में भी तपस पॉल ने काम किया था. बॉलीवुड में उन्‍होंने 'अबोध' फिल्म से डेब्यू किया था, जिसमें उनके अपोजिट माधुरी दीक्षित अभिनेत्री थीं. रोज वैली चिटफंड घोटाले में सीबीआई ने उन्‍हें दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया था. पॉल को 13 महीने बाद जमानत मिली थी.

यह भी पढ़ें : क्या प्रियंका राज्यसभा जाएंगी? जवाब देने से कांग्रेस ने किया परहेज

उनकी मौत की खबर से सिनेमा और राजनीति जगत की हस्तियां शोक में हैं. वह साल 2014 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल की कृष्णानगर सीट से जीत हासिल कर संसद पहुंचे थे. तपस पॉल का जन्म 29 सितंबर 1958 को हुआ था. 22 साल की उम्र में उन्‍होंने करियर की शुरुआत की थी. 'दादर कीर्ति' फिल्म से उन्‍होंने अभिनय की शुरुआत की थी. 80 के दशक में उन्होंने कामयाबी को छुआ. 'साहब', 'परबत प्रिया', 'भलोबासा भलोबासा', 'अमर बंधन', 'अनुरागेर चोयान' आदि फिल्‍में उनकी बैक-टू-बैक सुपरहिट रही. 1981 में रिलीज फिल्म 'साहब' के लिए उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था.

First Published: Feb 18, 2020 08:50:51 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो