BREAKING NEWS
  • बाप के बनाए गए कानून के फंदे में फंस गया बेटा, जानें क्‍या है पब्लिक सेफ्टी एक्ट - Read More »
  • अखिलेश यादव पर जया प्रदा का बड़ा हमला, बोलीं- जब आजम खान ने अत्याचार किए तब क्यों...- Read More »

Indian Army: सेना में भर्ती होने के लिए मैदान में उतरीं लड़कियां, हर चुनौती को दे रही हैं मात

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : September 12, 2019 11:17:45 AM

लखनऊ:  

देश में पहली बार आर्मी में महिला रिक्रूट की GD यानि कि जनरल ड्यूटी के लिए भर्ती आयोजित की गई है. 100 पोस्ट के लिए देश के 5 सेंटर्स पर भर्ती की जा रही है. लखनऊ, बेलगाम, अंबाला, जबलपुर और शिलॉन्ग में आर्मी भर्ती का आयोजन किया गया है. मिलिट्री पुलिस के लिए होने वाली इस भर्ती के लिए देशभर से कुल 2.58 लाख लड़कियों ने आवेदन किया है. सिर्फ उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से ही 1 लाख से ज्यादा लड़कियों ने आवेदन किया है.

यह भी पढ़ेंः गुजरात की राह चला उत्‍तर प्रदेश, कर सकता है ट्रैफिक जुर्माने में कटौती

इस भर्ती में लड़कियों के लिए 1600 मीटर रेस का समय 8 मिनट तय किया गया है. लंबी छलांग, ऊंची छलांग समेत फिजिकल टेस्ट की सभी औपचारिकताएं इन लड़कियों को पूरी करनी पड़ रही हैं, जोकि कतई आसान नहीं हैं. जिन लड़कियों ने पहले से तैयारी की है वो तो किसी तरह रेस और जंप टेस्ट क्वालीफाई कर ले रही हैं. लेकिन बाकी के लिए 1600 मीटर की रेस और 3 फीट की लंबी छलांग एवरेस्ट चढ़ने से कम नहीं है. कई लड़कियां तो रेस बीच में ही छोड़ती नजर आईं.

यह भी पढ़ेंः आज तीन राज्‍यों में विधानसभा चुनाव की तारीखें तय कर सकता है निर्वाचन आयोग

हालांकि उन लड़कियों की संख्या बहुतायत में रही, जिन्होंने सभी बाधाओं को पार कर लिया. आर्मी भर्ती के लखनऊ सेंटर पर भी बड़ी तादात में लड़कियों ने भाग लिया. बात करने पर लड़कियों ने कहा कि आर्मी उन्हें हमेशा से आकर्षित करती रही है और देशसेवा के लिए वो भी आर्मी जॉइन करना चाहती हैं. लेकिन 1 पोस्ट के लिए जब 2500 से भी ज्यादा लड़कियां आवेदन करें तो ये संख्या देशभक्ति के साथ देश में बेरोजगारी की बड़ी समस्या की ओर इंडिकेट करती हैं.

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार हो रहा है जब सेना में शामिल होने के लिए महिलाएं भाग ले रही हैं. इस आर्मी भर्ती का नोटिफिकेशन इस साल अप्रैल महीने में जारी किया गया था. बता दें, पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वतंत्रता दिवस के भाषण के बाद यह कदम उठाया गया है. प्रधानमंत्री ने इस कदम को भारत की बहादुर बेटियों के लिए एक उपहार बताया था.

First Published: Sep 12, 2019 10:08:16 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो