BREAKING NEWS
  • राजनीति से संन्यास पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने दिया बड़ा बयान- Read More »
  • Ayodhya Case : आज बंद कमरे में बैठेगी अयोध्‍या केस की सुनवाई कर रही संविधान पीठ- Read More »
  • India vs Pakistan : T-20 विश्‍व कप से पहले हो सकता है भारत पाकिस्‍तान का मुकाबला, यहां जानें आईसीसी का पूरा प्‍लान- Read More »

World Suicide Prevention Day: उत्‍तर प्रदेश पुलिस ने बदल दिया गांधी जी के बंदरों का संदेश, यह है वजह

दृगराज मद्धेशिया  |   Updated On : September 10, 2019 05:19:51 PM
गांधी जी के बंदर

गांधी जी के बंदर (Photo Credit : )

नई दिल्‍ली:  

World Suicide Prevention Day: गांधी जी के तीनों बंदरों के संदेश के बारे में हम सभी जानते हैं. अगर नहीं जानते हैं तो एक बार फिर आपको याद दिला दें. आंख मूंदे बंदर संदेश देता है कि बुरा न देखाे, मुंह बंद किए बंदर का संदेश है कि बुरा न कहो और कान बंद किए बंदर कहता है कि बुरा न सुनो. लेकिन उत्‍तर प्रदेश पुलिस (UP Police)  ने इन तीनों बंदरों के संदेशों को नए सिरे से परिभाषित किया है. अब उनका नया संदेश ये है. 

दरअसल यूपी 100 की ये सराहनीय पहल है. आज पूरी दुनिया World Suicide Prevention Day मना रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक दुनियाभर में हर साल 8 लाख लोग आत्महत्या (Suicide) करते हैं. यानी हर 40 सेकंड में एक व्यक्ति अपनी जान ले लेता है. WHO की ओर से आत्महत्या (Suicide) पर जारी ग्लोबल डाटा के मुताबिक आत्महत्या (Suicide) करने वालों में 15 से 29 साल के लोगों की तादाद सबसे ज्यादा है. खुदकुशी या आत्महत्या (Suicide) के बारे में लोग अक्सर बात करने से हिचकते हैं. ऐसे में होता यह है कि जो लोग खुदकुशी करने के विचारों या जज़्बात से जूझ रहे होते हैं, वो किसी से बात नहीं कर पाते और खुद को अकेला महसूस करते हुए खुदकुशी के विकल्प को आखिरी हल मान बैठते हैं.

यह भी पढ़ेंः 2 अक्‍टूबर से आपके जीवन में होने जा रहे हैं ये बदलाव, जानें यहां

ऐसे में यूपी पुलिस ने ट्वीटर पर पोस्‍ट किया गया यह संदेश बहुत कुछ कह रहा है. यूपी पुलिस ही नहीं ब्रिटिश ट्रांसपोर्ट पुलिस ने एक वीडियो के साथ यह संदेश ट्वीट किया है, हमने पहले आत्महत्या के विनाशकारी प्रभाव को देखा है. हमने यह भी देखा है कि कैसे एक छोटी सी बात एक जीवन को बचा सकती है. हम सभी के पास संकट में किसी की मदद करने का अनुभव है.

यह भी पढेंः World Suicide Prevention Day: अवसाद और आत्महत्या के इन संकेतों को जान लें

वहीं मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्ीट किया है कि..कठिनाइयाँ सबके जीवन में आती हैं. आत्महत्या करने से वे समाप्त तो नहीं होती लेकिन उन पर विजय प्राप्त करने की संभावनाएँ ज़रूर समाप्त हो जाती हैं. आइये, इस #WorldSuicidePreventionDay पर आत्महत्या की बढ़ती प्रवृत्ति पर रोक लगाने व इस समस्या के प्रति लोगों को जागरुक करने का संकल्प लें.

विश्‍व स्‍वस्‍थ्‍य संगठन ने भी एक वीडियो जारी किया है.

First Published: Sep 10, 2019 04:36:25 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो