BREAKING NEWS
  • IND VS SA : रांची में टॉस करने मैदान में नहीं जाएंगे दक्षिण अफ्रीकी कप्‍तान फाफ डु प्लेसिस, जानें फिर क्‍या होगा- Read More »
  • FATF से पाकिस्‍तान को मिल गई राहत पर डार्क ग्रे लिस्‍ट में रहेगा बरकरार- Read More »
  • चित्रकोट उपचुनाव पर सीएम भूपेश बघेल ने दिया बड़ा बयान, कहा-20 हजार वोटों से जीतेंगे- Read More »

उन्नाव रेप कांड में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, UP से बाहर होगी जांच, CBI से स्टेटस रिपोर्ट तलब

News State Bureau  |   Updated On : August 01, 2019 11:39:45 AM
प्रतीकात्मक फोटो।

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit : )

लखनऊ:  

उन्नाव रेप कांड मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सीबीआई के अधिकारियों को तलब करते हुए अब तक हुई जांच की स्टेटस रिपोर्ट मांगी है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अगर CBI के अधिकारी ओपन कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट नहीं बता सकते तो वह इस मामले की सुनवाई अपने चेंबर में करेंगे. उन्होंने सीबीआई को 12 बजे तक अपनी स्टेटस रिपोर्ट सौंपने को कहा है.

यह भी पढ़ें- Unnao Rape Case: CBI की प्राथमिक जांच में सामने आए ये चौंका देने वाले तथ्य 

चीफ जस्टिस ने यह भी संकेत दिए हैं कि उन्नाव रेप कांड और उन्नाव रेप कांड की पीड़िता के एक्सीडेंट के मामले की जांच अब सीबीआई उत्तर प्रदेश से बाहर करेगी. रेप पीड़िता का परिवार उत्तर प्रदेश से बाहर जांच की मांग लगातार उठाता रहा है. परिजनों का कहना था कि रेप के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के गुर्गे उन्हें धमकी देते हैं. केस वापस लेने का लगातार दबाव बनाया जा रहा है.

यह भी पढ़ें- योगी की पुलिस ने बिल्डर को शराब तस्कर बनाकर भेज दिया जेल, पढ़ें क्या है पूरा मामला 

12 बजे दोबारा सुनवाई को लेकर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता दोबारा कोर्ट पहुंचे. यहां उन्होंने कहा कि इस केस की जांच से जुड़े अधिकारी लखनऊ में हैं. आज कोर्ट नहीं आ सकते. उन्होंने सुनवाई को शुक्रवार साढ़े दस बजे तक टालने की मांग की.

जिस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुनवाई को कल तक टालने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि सीबीआई के डायरेक्टर जांच अधिकारी से बात करें और 12 बजे तक कोर्ट को रिपोर्ट से अवगत कराएं.

रेप पीड़िता ने लिखी थी चिट्ठी

उन्नाव रेप कांड की पीड़िता ने 12 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नाम एक खत लिखा था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उस खत में पीड़िता ने इस बात का संदेह जताया था कि उसके और उसके परिवार की जान खतरे में है.

यह भी पढ़ें- उन्नाव कांड सरकार के संरक्षण के बिना संभव नहीं, अब परतें खुल रहीं, प्रियंका गांधी ने लगाए गंभीर आरोप

रेप का आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर लगातार उसे और उसके परिवार को खत्म करवाने की धमकी दे रहा है. यह बात मीडिया में आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस चिट्ठी का संज्ञान लिया. CJI ने रजिस्ट्री से भी रिपोर्ट तलब की कि आखिर ख़त को उनके सामने पेश करने में देरी क्यों हुई.

पीड़िता के वकील को नहीं मिला था बंदूक का लाइसेंस

बृहस्पतिवार को पीड़िता के वकील के द्वारा लिखा गया एक प्रार्थना पत्र वायरल हुआ है. यह प्रार्थना पत्र पीड़िता के वकील ने जिलाधिकारी को लिखा था. इसमें उसने बताया था कि उसे लगातार जान से मारने की धमकी मिल रही है. इतना ही नहीं उसने आरोप लगाया था कि सत्ता के दबाव में उसके बंदूक के लाइसेंस को नहीं बनाया जा रहा है.

First Published: Aug 01, 2019 10:54:33 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो