उन्नाव रेप कांड: पीड़िता की गाड़ी को जिस ट्रक ने मारा वह सपा नेता के भाई का निकला

News State Bureau  |   Updated On : July 30, 2019 03:25:31 PM
प्रतीकात्मक फोटो।

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  दुष्कर्म पीड़िता की कार का रविवार को हुआ था हादसा
  •  हादसे में रेप की गवाह समेत दो महिलाओं की हुई थी मौत
  •  पीड़िता और उसके वकील ट्रामा सेंटर में भर्ती हैं

नई दिल्ली:  

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए सड़क हादसे में एक के बाद एक नया खुलासा हो रहा है. पुलिस का कहना है कि एक्सीडेंट करने वाला ट्रक समाजवादी पार्टी के नेता नंदू पाल के बड़े भाई देवेंद्र पाल का है. उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए सड़क हादसे के बाद फतेहपुर के जेल रोड पर स्थित देवेंद्र पाल के मकान में ताला लगा है.

यह भी पढ़ें- Unnao Rape Case: BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत 10 लोगों पर मुकदमा दर्ज 

देवेंद्र पाल ललौली थाना क्षेत्र के मुत्तोर गांव का रहने वाला है. पुलिस उसकी तलाश कर रही है. बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उसके भाई मनोज सेंगर और आठ अन्य के खिलाफ दुर्घटना का एक मामले में मुकदमा दर्ज किया है. जेल में बंद रेप पीड़िता के चाचा ने कुलदीप सिंह सेंगर समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

यह भी पढ़ें- उन्नाव रेप केस: दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल पीड़िता से मिलीं 

आपको बता दें कि रविवार को उन्नाव रेप कांड की पीड़िता की गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया था. जिसमें दो महिलाओं की मौत हो गई थी. वहीं पीड़िता और उसके वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे. हादसे में मृत महिलाओं में से एक उन्नाव दुष्कर्म के मामले में गवाह थी.

यह भी पढ़ें- उन्नाव रेप कांड पर अखिलेश यादव का बीजेपी पर निशाना, कही ये बात

दुष्कर्म पीड़िता की मां ने सोमवार को अस्पताल में आरोप लगाया था कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर लगातार उनके परिवार को खत्म करने की धमकी देता था. एक्सीडेंट के मामले में ट्रक के ड्राइवर और क्लीनर को गिरफ्तार कर लिया गया है.

राजनीति शुरु

उन्नाव रेप कांड की पीड़िता के साथ हुए हादसे में राजनीति भी शुरु हो गई. सोमवार को सपा और कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल ने पीड़िता से मुलाकात की. यहां उन्होंने परिजनों को हर संभव मदद का विश्वास दिलाया. पीड़िता की मां ने यह भी बताया कि लगातार उन्हें इलाज के लिए बहुत से पैसे खर्च करने पड़े. यह बात मीडिया में आने के बाद सरकार ने पीड़िता और उसके वकील के इलाज कराने का फैसला किया.

First Published: Jul 30, 2019 09:16:20 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो