BREAKING NEWS
  • यूपी उपचुनावः रामपुर में पकड़े गए 7 फर्जी एजेंट, समाजवादी पार्टी के लिए कर रहे थे काम- Read More »
  • यूपी: सोशल मीडिया पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के मामले में 4 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज- Read More »

PM Modi की मेक इन इंडिया पहल, सब ठीक रहा तो उत्तर प्रदेश में बनेगा राफेल

NEWS STATE BUREAU  |   Updated On : October 11, 2019 03:02:51 PM
लखनऊ में पहली बार 11वां डिफेंस एक्‍सपो इंडिया 2020 आयोजित किया जाएगा.

लखनऊ में पहली बार 11वां डिफेंस एक्‍सपो इंडिया 2020 आयोजित किया जाएगा. (Photo Credit : (फाइल फोटो) )

New Delhi :  

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पहली बार 11वां डिफेंस एक्‍सपो इंडिया 2020 आयोजित किया जाएगा. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के संसदीय क्षेत्र लखनऊ में अगले साल 5 से 8 फरवरी, 2020 के बीच 11वां डिफेंस एक्‍सपो इंडिया 2020 आयोजित होगा. इसमें दुनिया की जानी-मानी रक्षा उत्पाद कंपनियों को उत्तर प्रदेश में लाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार ने मिलकर संभावनाओं का 'कॉरिडोर' बनाया है. रक्षा मंत्रालय द्वारा फरवरी में राजधानी लखनऊ में आयोजित किए जा रहे डिफेंस एक्सपो में राफेल बनाने वाली फ्रांस की डेसॉल्ट सहित तमाम कंपनियां आने को तैयार हैं. डिफेंस कॉरिडोर के प्रति जिस तरह की जिज्ञासा उन्होंने दिखाई है, उससे इन उम्मीदों को बल मिला है कि आने वाले समय में राफेल जैसे लड़ाकू विमानों का निर्माण यहां भी हो.

सूत्रों की मानें तो सरकार को उम्मीद है कि इसमें 20 हजार करोड़ रुपये का निवेश होगा. अभी जमीन अधिग्रहण का काम चल रहा है, इसके साथ ही यहां कंपनियों की स्थापना कराने के लिए प्रयास तेज हो गए हैं. ऐसे में रक्षा मंत्रालय द्वारा अगले वर्ष पांच से सात फरवरी तक आयोजित किया जा रहा डिफेंस एक्सपो बड़ा माध्यम बनने जा रहा है.

यह भी पढ़ें- हत्या की खबर पुलिस को देने पर परिवार आया अपराधियों के निशाने पर

पिछले दिनों लंदन में आयोजित डिफेंस एक्सपो में गए सरकार के प्रतिनिधिमंडल ने वहां आईं दुनिया भर की लगभग दो दर्जन रक्षा उत्पादन कंपनियों के साथ वार्ता कर उन्हें डिफेंस कॉरिडोर और यहां की संभावनाओं के बारे में बताया था. शासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इनमें राफेल बनाने वाली फ्रांस की डेसॉल्ट, रॉल्स रॉयस, साब, जनरल डायनेमिक्स, एयरबस सहित कई कंपनियों ने उप्र की भूमि नीति, डिफेंस एंड एयरोस्पेस नीति के बारे में जानकारी ली है. साथ ही आयुध परीक्षण के लिए जमीन के बारे में पूछा है. उन्हें बताया गया है कि झांसी के पास बबीना में भूमि है, जो आयुध परीक्षण के लिए आरक्षित की जा सकती है.

यह भी पढ़ें- गोरखपुर जेल में कैदियों ने मचाया हंगामा, पुलिस टीम के कई अधिकारियों को पीटा

इसके साथ ही सरकार ने तैयारी कर ली है कि इन कंपनियों के प्रतिनिधि डिफेंस एक्सपो में आते हैं तो उन्हें डिफेंस कॉरिडोर के लिए चिन्हित जिलों में ले जाकर स्थलीय निरीक्षण कराया जाएगा. यह कंपनियां यहां संयुक्त उपक्रम के तहत अपनी इकाइयां स्थापित कर सकती हैं. उप्र औद्योगिक एक्सप्रेस वे प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि कंपनियों को निमंत्रण तो भारत सरकार भेजेगी, लेकिन कंपनी के प्रतिनिधि लखनऊ आएंगे तो उन्हें डिफेंस कॉरिडोर का स्थलीय निरीक्षण कराया जाएगा. हमारे पास जमीन उपलब्ध है, बेहतर संभावनाएं हैं. पूरी उम्मीद है कि निवेशक आकर्षित होंगे और डिफेंस कॉरिडोर में इकाइयां लगाएंगे.

मेक इन इंडिया को मिलेगा बढ़ावा

डिफेंस एक्सपो प्रमुख विदेशी मूल उपकरण निर्माताओं (ओईएम) को भारतीय रक्षा उद्योग के साथ सहयोग करने और पीएम मोदी की मेक इन इंडिया पहल को बढ़ावा देने में मदद करने का अवसर प्रदान करेगा. डिफेंस एक्सपो में विदेशी प्रतिनिधिमंडलों के साथ बिजनेस-टू-बिजनेस (बी2बी) बातचीत की भी सुविधा मिलती है. साथ ही सरकार से सरकार के स्तर पर भी एमओयू (MOU) साइन होते हैं. विदेशों से मंत्री स्तर के डेलिगेशन और यहां आने वाले लोगों से भारत के एक प्रमुख विनिर्माण केंद्र के रूप में उभरने की उम्मीद है. देश में इससे न सिर्फ सेना को मजबूत करने में मदद मिलेगी बल्कि भारत बड़े पैमाने पर डिफेंस उपकरणो का निर्यातक भी बन सकता है.

इसलिए डिफेंस एक्सपो के लिए चुना गया यूपी

यह प्रदर्शनी रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए एक आकर्षक गंतव्य के रूप में उत्तर प्रदेश को भी उभारेगी और रक्षा उद्योग में पार्टनरशिप और संयुक्त उद्यमों के लिए एक मंच के रूप में भूमिका निभाएगी. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उत्‍तर प्रदेश में मजबूत रक्षा औद्योगिक आधारभूत ढांचा है. इसमें लखनऊ, कानपुर, कोरवा और नैनी (प्रयागराज) में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) की चार इकाइयां, नौ आयुध फैक्टरियां हैं, जिनमें कानपुर, कोरवा, शाहजहांपुर, फिरोजाबाद और गाजियाबाद में भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड की एक इकाई शामिल हैं. भारत के दो रक्षा औद्योगिक गलियारों (डीआईसी) में से एक की योजना उत्तर प्रदेश में भी है.

बता दें कि इससे पहले दिल्‍ली के प्रगति मैदान में होने वाला डिफेंस एक्‍सपो मनोहर पर्रिकर के रक्षामंत्री बनने पर 2016 में गोवा, निर्मला सीतारमण के रक्षा मंत्री बनने पर 2018 में चेन्‍नई में हुआ था. अब राजनाथ सिंह के रक्षा मंत्री बनने पर यह लखनऊ में आयोजित होने जा रहा है. इससे पहले लखनऊ में एयरो इंडिया शो होने वाला था लेकिन राजनीतिक विरोध के चलते इसे रद्द कर दिया गया था.

First Published: Oct 11, 2019 02:42:09 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो