उलेमाओं का सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों की रिहाई के लिए अल्टीमेटम

IANS  |   Updated On : January 26, 2020 12:39:37 PM
सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  उलेमाओं ने प्रदर्शनकारियों को 29 तक रिहा करने को कहा.
  •  ऐसा नहीं होने पर 30 जनवरी को अगले कदम पर निर्णय लेंगे.
  •  इसके बाद रामपुर जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया.

लखनऊ:  

रामपुर के उलेमाओं ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनकारियों को 29 जनवरी तक रिहा करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो वे अगले दिन 30 जनवरी को अपने अगले कदम पर निर्णय लेंगे. रामपुर जामा मस्जिद कमेटी के सचिव मुकर्रम इनायती ने कहा है कि सीएए विरोधी प्रदर्शन के दौरान 21 दिसंबर, 2019 को गिरफ्तार कर जेल भेजे गए निर्दोष प्रदर्शकारियों की रिहाई के लिए उनके परिवार से प्रतिदिन महिलाएं जामा मस्जिद में आकर पूछती हैं. हमने रामपुर जिला अधिकारी को ज्ञापन देकर सभी मौलानाओं को रिहा करने के लिए कहा है. अगर इन लोगों को जेल से रिहा नहीं किया गया तो संविधान के अंतर्गत प्रदर्शन किया जाएगा.

यह भी पढ़ेंः Republic Day 2020: 71वें गणतंत्र दिवस परेड की 10 प्रमुख बातें

डीएम से की भी मुलाकात
जामा मस्जिद कमेटी के सदस्यों ने इस संबंध में शनिवार को रामपुर के जिला अधिकारी आंजनेय कुमार सिंह से मुलाकात की. इसके बाद मुरादाबाद रेंज के पुलिस महानिरीक्षक रमित शर्मा ने रामपुर पहुंचकर स्थानीय प्रशासन तथा पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की. जिला अधिकारी ने कहा, 'हम पुलिस अधिकारियों के लगातार संपर्क में हैं और हमारी प्राथमिकता ऐसे प्रदर्शनकारियों को रिहा करने की है, जिनके खिलाफ अभी तक कोई सबूत नहीं मिला है. मुझे लगता है कि हम जल्द ही इसका समाधान निकाल लेंगे.'

यह भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांधा केसरिया रंग का 'बंधेज साफा', परंपरा रखी बरकरार

प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
महिलाओं ने सीएए के खिलाफ जामा मस्जिद के अंदर प्रदर्शन शुरू किया था, लेकिन जिला प्रशासन ने आंदोलन को रोकते हुए कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया. इस बीच मौलानाओं की चेतावनी के बाद रामपुर जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है.

First Published: Jan 26, 2020 12:36:54 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो