BREAKING NEWS
  • बिहार के गौतम बने 'KBC 11' के तीसरे करोड़पति, कहा-पत्नी की वजह से मिला मुकाम- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »
  • IND vs SA, Live Cricket Score, 1st Test Day 1: भारत ने टॉस जीता पहले बल्‍लेबाजी- Read More »

ईसाइयों पर जबरन धर्म परिवर्तन का आरोप, पूर्वी UP में बढ़ा तनाव

IANS  |   Updated On : July 13, 2019 04:56:49 PM
प्रतीकात्मक फोटो।

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  जबरन धर्म परिवर्तन के कारण लगातार बढ़ रहा तनाव
  •  पुलिस पर भी ईसाइयों के उत्पीड़न का आरोप लगता रहा है
  •  'नर्क' का भय दिखाकर धर्मांतरण का आरोप

लखनऊ:  

धर्म परिवर्तन के मुद्दे को लेकर हिंदू संगठनों और ईसाइयों के बीच पूर्वी उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में तनाव बढ़ रहा है. कुछ संगठन ईसाइयों पर हिंदुओं का जबरन धर्म परिवर्तन करने का आरोप लगा रहे हैं, जिसके बाद से गिरजाघरों और पादरियों पर हमलों में तेजी आई है.

यह भी पढ़ें- घरेलू झगड़े से तंग आकर युवती ने की खुदकुशी, पहले हाथ की नस काटी और फिर...

कई अधिकांश मामलों पर पुलिस पर आरोप है कि वह सिर्फ ईसाइयों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है. रायबरेली में दो पादरियों आजाद और कादी यादव को हाल ही में जबरन धर्मातरण के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. चार जुलाई को एक स्थानीय पादरी पर कुछ हिंदू संगठन के नेताओं द्वारा हमला किया गया.

यह भी पढ़ें- गाजियाबाद में सहपाठियों से परेशान दलित छात्र ने आत्महत्या की

पूर्वी क्षेत्र के जौनपुर, रॉबर्ट्सगंज, वाराणसी और गोरखपुर से भी ऐसे ही हमले होने की खबरें हैं. जौनपुर वास्तव में सितंबर 2018 में चर्चो पर हिंसा और हमलों का गवाह बना था, जिसके बाद से कुछ चर्च बंद कराए गए थे. अमेरिकी दूतावास के अधिकारियों ने तब राज्य के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मोहसिन रजा से मुलाकात की और मामले में उनके हस्तक्षेप की मांग की थी.

यह भी पढ़ें- दलित से साक्षी की शादी का समर्थन करने वालों पर हरदोई के विधायक ने की ऐसी आपत्तिजनक टिप्पणी

मंत्री ने कहा, "पिछले साल दिसंबर में, अमेरिकी दूतावास से एक प्रतिनिधिमंडल आया और मुझे चचरें की एक सूची दी, जिसमे से अधिकतर जौनपुर, सुल्तानपुर, आजमगढ़ और कुछ अन्य जिलों में स्थित है" उन्होंने कहा, "इसके बाद मैंने जिला अधिकारियों से बात की थी और बाद में चर्चो को फिर से खोल दिया गया था."

यह भी पढ़ें- आगरा में बस हादसे के बाद ग्रामीणों को रात में नहीं आती नींद, सुनाई देती हैं चीख-पुकार

जौनपुर चर्च के एक पुजारी राजिंदर चौहान का कहना है कि चर्च को फिर से खोलने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने कहा, "मुझे 15 दिनों के लिए जेल भेज दिया गया था, क्योंकि जिला प्रशासन के साथ मिलकर हिंदू समूह नहीं चाहते कि हम यहां रहें."

यह भी पढ़ें- मुस्लिम बच्चों को 'जय श्रीराम' के नारे लगाने के लिए मजबूर करने से योगी सरकार का इनकार

इन जिलों के पुलिस अधिकारियों ने दावा किया है कि उनके पास मामलों का विवरण नहीं है, लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें 'अक्सर' जबरन धर्मांतरण की शिकायतें मिलती रहीं हैं. बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका स्थित 'एलायंस डिफेंडिंग फ्रीडम' (एडीएफ) ने कहा कि इस क्षेत्र में ईसाइयों के खिलाफ 125 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं, जिसमें से 110 पादरियों को धर्मांतरण के आरोप में गिरफ्तार किया गया.

चौहान ने कहा कि रविवार को 2500 से अधिक लोग उनकी प्रार्थना सभाओं में भाग लेने आते हैं. उन्होंने कहा, "निश्चित रूप से मैं 2500 लोगों को प्रार्थना सभा में आने और शामिल होने के लिए मजबूर नहीं कर सकता. वे इसलिए आते हैं, क्योंकि उन्हें यहां मानसिक शांति मिलती है."

First Published: Jul 13, 2019 04:56:49 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो