BREAKING NEWS
  • बिहार के गौतम बने 'KBC 11' के तीसरे करोड़पति, कहा-पत्नी की वजह से मिला मुकाम- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »
  • IND vs SA, Live Cricket Score, 1st Test Day 1: भारत ने टॉस जीता पहले बल्‍लेबाजी- Read More »

यौन शोषण के आरोपी स्वामी चिन्मयानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया

डालचंद  |   Updated On : September 20, 2019 03:05:38 PM
जेल पहुंचे स्वामी चिन्‍मयानंद

जेल पहुंचे स्वामी चिन्‍मयानंद (Photo Credit : )

शाहजहांपुर:  

यौन शोषण के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता स्‍वामी चिन्‍मयानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है. चिन्मयानंद पर 376C, 354D, 342 और 506 के तहत आरोप तय किए गए हैं. उधर, चिन्मयानंद की ओर से उनके वकील ने कोर्ट में अर्जी लगातर स्वामी को केजीएमसी में भेजने की गुहार लगाई है. बता दें कि कई दिनों की जद्दोजहद के बाद आज सुबह शाहजहांपुर में सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित एसआईटी और पुलिस ने चिन्‍मयानंद को गिरफ्तार किया है. 

यह भी पढ़ेंः सैलरी लेने गई महिला को महिला ठेकेदार ने ही बेच दिया, फिर जो हुआ वो...

स्वामी को उनके ही मुमुक्ष आश्रम से हुई अरेस्ट किया गया है. फिर एसआईटी उन्हें मेडिकल जांच के लिए अस्पताल लेकर गई. उसके बाद एसआईटी ने बीजेपी नेता को कोर्ट में पेश किया. जहां से कोर्ट ने स्‍वामी चिन्‍मयानंद को 14 दिन की रिमांड पर जेल भेज दिया है. सूत्र बताते हैं कि पीड़िता की इस धमकी के बाद ही एसआईटी की जांच में अचानक तेजी आ गई. जिसका परिणाम एसआईटी द्वारा स्वामी की गिरफ्तारी के रूप में सामने आया है.

उल्लेखनीय है कि कई दिनों से एसआईटी की जांच पर सवालिया निशान लगाए जाने लगे थे. वजह थी तमाम गवाह सबूतों की मौजूदगी के बाद भी आरोपी स्वामी की गिरफ्तारी न होना. दो दिन पहले ही पीड़िता ने अदालत में धारा 164 के तहत बयान दर्ज कराए थे. तभी आशंकाएं प्रबल होने लगी थीं कि चिन्मयानंद की गिरफ्तारी कभी भी हो सकती है. उधर पीड़िता के अदालत में बयान दर्ज कराते ही आरोपी चिन्मयानंद कथित बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती हो गया था.

यह भी पढ़ेंः यह लड़की जाना चाहती है पति के पास, UP सरकार ने नहीं दिया जवाब तो सुप्रीम कोर्ट नाराज

बता दें कि स्वामी पर उनके ही कॉलेज में पढ़ने वाली कानून की एक छात्रा ने दुष्कर्म और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया था. बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ गठित करवा कर पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित करने का निर्देश दिया था. स्वामी को गिरफ्तार करने वाली एसआईटी टीम का नेतृत्व यूपी पुलिस के महानिरीक्षक नवीन अरोरा कर रहे हैं.

First Published: Sep 20, 2019 11:40:13 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो