BREAKING NEWS
  • हिंदू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म अपनाएंगी मायावती, बड़ी तादाद में समर्थक भी करेंगे धर्म परिवर्तन- Read More »
  • जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों ने ट्रक ड्राइवर की गोली मार की हत्या, सर्च अभियान जारी- Read More »
  • पाकिस्तान ने भारत को दहलाने की रची बड़ी साजिश, लश्कर समेत 3 बड़े आतंकी संगठन को सौंपा ये काम- Read More »

चचा शिवपाल के लिए सपा के दरवाजे खुले, अखिलेश ने दिया बड़ा बयान

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : September 20, 2019 05:11:14 PM
शिवपाल यादव की वापसी पर सकारात्मक रुख अपनाया अखिलेश यादव ने.

शिवपाल यादव की वापसी पर सकारात्मक रुख अपनाया अखिलेश यादव ने. (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  अपने कार्यकाल के आखिरी दिनों में अखिलेश यादव ने उठाए कई क्रांतिकारी कदम.
  •  इनमें सबसे प्रमुख रहा शिवपाल यादव को बाहर का रास्ता दिखाना.
  •  अब शिवपाल की वापसी की संभावनाओं पर दिखाया सकारात्मक रुख.

लखनऊ:  

इस घर को आग लग गई घर के चिराग से की तर्ज पर पहले तो शिवपाल यादव समेत तमाम जनाधार वाले नेताओं को समाजवादी पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया. फिर विधानसभा चुनाव समेत लोकसभा चुनाव में एकतरफा फैसले लेकर पार्टी की लुटिया डुबो दी. अब सब कुछ लुटा कर होश में आए के अंदाज में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने चचा शिवपाल यादव की समाजवादी पार्टी में ढके-छिपे अंदाज में वापसी के संकेत दिए हैं. उत्तर प्रदेश के सियासी अखाड़े में अगर यह बेल मुंडेर चढ़ती है, तो राजनीतिक समीकरणों को नए सिरे से समझने-बिछाने की नौबत तय मानी जा सकती है.

यह भी पढ़ेंः कॉर्पोरेट टैक्स घटाने पर राहुल गांधी ने कहा- शेयर बाजार के लिए मोदी ने जो किया वह शानदार है, लेकिन...

एकला चलो की नीति पर चले अखिलेश
उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री बतौर सत्ता संभालने वाले अखिलेश यादव के राजनीतिक ककहरा सिखाने वाले शिवपाल सिंह यादव से संबंध इस कदर बिगड़े कि उन्होंने न सिर्फ उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया, बल्कि उनके शुभचिंतकों पर भी कोई रहम नहीं दिखाया. यहां तक कि इस मसले पर उन्होंने सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव तक की सलाह नहीं मानी. अखिलेश यादव ने एकला चलो की नीति अपना ऐसे तमाम फैसले लिए जिन्होंने उत्तर प्रदेश की राजनीति में भूचाल सा ला दिया.

यह भी पढ़ेंः शाहिद अफरीदी की बेशर्मी, श्रीलंकाई खिलाड़ियों के फैसले पर भारत को बताया जिम्मेदार

सबकी सलाह दरकिनार कर किया बसपा से गठबंधन
इसमें भी सबसे अहम रहा सपा की धुर विरोधी पार्टी बसपा से गठबंधन. यह दीगर बात है कि शिवपाल यादव ने अपनी अलग पार्टी लांच की और अखिलेश को इशारों-इशारों में समझाया भी, लेकिन अखिलेश यादव ने किसी सलाह पर कान नहीं दिए. विधानसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद लोकसभा चुनाव में बसपा के हाथों अपना जनाधार लुटाने के बाद संभवतः अखिलेश यादव बदलते माहौल में सपा के भविष्य को लेकर चिंतित प्रतीत हो रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः मुंबई गठबंधन का फार्मूला हुआ तय, उद्धव ठाकरे बोल- हम पहले से ही BJP के साथ

शिवपाल यादव की संभावनाओं पर दिखाया पॉजिटिव रुख
यही वजह है कि लखनऊ में आयोजित पत्रकार वार्ता में जब उनसे समाजवादी पार्टी में शिवपाल यादव की वापसी की संभावनाओं के बारे में पूछा गया तो अखिलेश यादव ने कहा, हमारे परिवार में लोकतांत्रिक व्यवस्था है. ऐसे में जो भी आना चाहता है, उसके लिए पार्टी के दरवाजे हमेशा खुले हैं. यहां हरएक का स्वागत है. जाहिर है अखिलेश यादव के इस बयान के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति में कयासबाजी का दौर शुरू हो गया है.

First Published: Sep 20, 2019 04:56:09 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो