BREAKING NEWS
  • UP: एंबुलेंस नहीं मिली तो घायल को ठेले पर लादकर अस्पताल ले गए पुलिसवाले- Read More »
  • नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी पर मायावती ने दिया बड़ा बयान, कही ये बात- Read More »
  • रोहित शर्मा ने कर दिया ऐसा कमाल, जो आज तक कोई नहीं कर पाया- Read More »

उत्तर प्रदेश के रोडवेज चालकों ने सोशल मीडिया पर बयां किया अपना दर्द, पढ़ें पूरी खबर

IANS  |   Updated On : July 11, 2019 03:51:17 PM
फाइल फोटो

फाइल फोटो (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (यूपीएसआरटीसी) के अनुबंधित बस चालकों ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी उस 'दयनीय' स्थिति को उजागर किया है, जिसमें उन्हें काम करना पड़ता है. यूपी परिचालक के नाम से फेसबुक पेज पर चालकों ने एक पोस्ट में कहा कि यदि दुर्घटनाग्रस्त बस के चालक ने दुर्घटना को अंजाम दिया, तो वह जिम्मेदार है, लेकिन यही यूपीएसआरटीसी, चालकों को कम पारिश्रमिक पर नौकरी देता है और उनसे दोगुना काम लेता है. इस नीति के माध्यम से यूपीएसआरटीसी लाभ भी कमाता है.

यह भी पढ़ें- भ्रष्टाचार को लेकर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कही ये बात

पोस्ट में यह भी लिखा गया है कि अनुबंधित वाहन चालक और कंडक्टर को प्रति किलोमीटर 1 रुपये 36 पैसे दिए जाते हैं और उनसे उम्मीद की जाती है कि वह 16 से 17 घंटे काम करें. बता दें कि यूपीएसआरटीसी में करीब 26,000 चालक और कंडक्टर हैं, जिनमें से 17,500 अनुबंध पर नियुक्त किए गए हैं. अनुबंध पर नियुक्त किए गए चालक प्रति किलोमीटर के आधार पर मेहताना पाते हैं. वहीं नियमित चालक जिन्हें 22 दिनों की ड्यूटी पर लगाया जाता है और जो 5,000 किलो मीटर की दूरी तय करते हैं, उन्हें 3,000 रुपये का अतिरिक्त प्रोत्साहन भी मिलता है.

यह भी पढ़ें- मायावती का हमला- बीजेपी सत्ता का दुरुपयोग कर लोकतंत्र को कलंकित कर रही है

पोस्ट में कहा गया है कि यदि अनुबंधित चालक 5,000 किलोमीटर की दूरी से कम दूरी तय करते हैं, तो उनके कार्य के दिनों को 22 के बजाय 21 दिन ही लिखा जाता है. अनुबंधित कर्मचारी प्रतिदिन 15 से 20 घंटे काम करता है, क्योंकि उन्हें अपने परिवार को चलाने के लिए धन की जरूरत होती है. हम उन बसों को चलाने के लिए बने हैं, जो खराब स्थिति में हैं और अगर हम उसे चलाने से मना करते हैं, तो हमारी सेवाएं समाप्त हो जाती हैं. इसके अलावा अतिरिक्त ईंधन और कोई क्षति होने पर उसकी पूर्ति भी अनुबंधित कर्मचारियों को करनी पड़ती है.

यह वीडियो देखें-  

First Published: Jul 11, 2019 03:51:17 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो