बिना अनुमति के छापा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का विज्ञापन, पुलिस ने दर्ज की FIR

News State Bureau  |   Updated On : January 22, 2020 06:54:54 PM
बिना अनुमति के छापा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का विज्ञापन, पुलिस ने दर्ज की FIR

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

अमेठी:  

केन्द्रीय मंत्री एवं अमेठी से लोकसभा सांसद स्मृति ईरानी के नाम, पदनाम और फोटो का इस्तेमाल उनकी बिना अनुमति के एक विज्ञापन में किया गया है, जिसके बाद स्मृति के निजी सचिव विजय गुप्ता ने पुलिस को पत्र लिखकर संबंधित लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए कहा है. पुलिस अधीक्षक ख्याति गर्ग ने बुधवार को बताया कि एक मामला संज्ञान में आया है, जिसमें अखबार में साईं ग्रीन सिटी, जगदीशपुर का विज्ञापन छापा गया है, जिसमें प्लॉट खरीदने के लिए अपील की गई है, इसी अपील के नीचे कुछ वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों की तस्वीरें, नाम और पदनाम का उल्लेख किया गया है.

यह भी पढे़ंःएटलस साइकिल कंपनी की मालकिन ने की आत्महत्या, शव पंखे से लटका मिला; जानें पूरा मामला

ख्याति गर्ग ने बताया कि इसी के चलते सांसद के निजी सचिव द्वारा हमें प्रार्थना पत्र प्राप्त हुआ, जिसके माध्यम से पुलिस कार्रवाई के लिए लिखा गया था. पत्र में कहा गया है कि बिना उनकी सहमति और पूर्व अनुमति के उनके नाम को बदनाम करते हुए प्लाट बेचने एवं खरीदने की अपील की गई है. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि थाना जगदीशपुर में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया गया है. इसमें प्रथम दृष्टया पूछताछ चल रही है.

अधिकारी ने बताया कि साईं ग्रीन सिटी के एमडी वीरेंद्र विधि, उनके पार्टनर सोनू यज्ञ सैनी और वहां के ग्राम प्रधान अभय प्रताप सिंह सहित अन्य लोगों से पूछताछ की जा रही है. ख्याति गर्ग ने कहा कि किसी भी जनप्रतिनिधि का नाम, पदनाम और फोटो उनकी सहमति या पूर्व अनुमति के विज्ञापन में प्रकाशित करना अपराध है.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ''इस पर रोक लगाने एवं लोगों को जागरूक करने के लिए आप लोगों के माध्यम से बताना चाहूंगी कि इसमें साईं ग्रीन सिटी ठेकेदारी तथा प्लाटिंग की एनओसी के संबंध में डीएम कार्यालय को अग्रिम कार्रवाई के लिए मेरे द्वारा रिपोर्ट प्रेषित की जाएगी. मुकदमा भी अज्ञात के नाम पंजीकृत किया गया है और कुछ लोगों के नाम प्रकाश में आए हैं. विवेचना भी चल रही है. इसमें दो-तीन स्तर पर कार्रवाई की जा रही है.

यह भी पढे़ंःसुप्रीम कोर्ट पहुंची केंद्र सरकार- बोली- दया याचिका खारिज होने पर 14 दिन में हो फांसी

उन्होंने कहा कि इस विज्ञापन में मानहानि का अपराध किया है. विज्ञापन में स्मृति के साथ उत्तर प्रदेश के राज्य मंत्री सुरेश पासी तथा भाजपा के निवर्तमान जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी की भी फोटो एवं पदनाम का इस्तेमाल किया गया है. इस पर कांग्रेस पार्टी के विधान परिषद सदस्य दीपक सिंह ने ट्विटर पर कटाक्ष किया कि लोग देश बेचने का काम कर रहे हैं. अभी स्मृति ईरानी जी को चुनाव जीते साल भर भी नहीं हुआ है और अमेठी में वह बाकायदा विज्ञापन देकर प्लाट भी बेचने लगीं.

First Published: Jan 22, 2020 06:17:28 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो