BREAKING NEWS
  • पाकिस्तान की नहीं बंद हो रही नापाक हरकत, पुंछ में संघर्ष विराम का उल्लंघन; गोली लगने से महिला की मौत- Read More »
  • जम्मू-कश्मीर: पोस्टपेड मोबाइल सेवा बहाल होने के बाद SMS सेवाओं पर लगाई गई रोक- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »

मुश्‍किल में ओमप्रकाश राजभर, बर्खास्‍तगी के बाद अब सामने आया यह बड़ा खतरा

News state Bureau  |   Updated On : May 22, 2019 11:23:48 AM
ओमप्रकाश राजभर, सुभासपा के अध्‍यक्ष

ओमप्रकाश राजभर, सुभासपा के अध्‍यक्ष (Photo Credit : )

नई दिल्‍ली:  

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर आजकल मुश्‍किल में हैं. एक तो उन्‍हें योगी आदित्‍यनाथ की सरकार से बर्खास्‍त कर दिया गया है, दूसरी ओर उनकी पार्टी को अब टूट का खतरा बढ़ गया है. बताया जा रहा है कि राजभर की पार्टी के तीन विधायक उनसे नाराज चल रहे हैं और वे बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

अपनी बर्खास्‍तगी के बाद ओमप्रकाश राजभर ने कहा था, जिसको जहां जाना हे जाए, हम किसी को नहीं रोकेंगे. उनके बयान को भी पार्टी पर आए खतरे से जोड़कर देखा जा रहा है. पार्टी सूत्र के अनुसार, जल्द ही राजभर को छोड़ तीनों विधायक बीजेपी जॉइन कर सकते हैं. 

बताया जा रहा है कि तीनों नाराज विधायकों ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान राजभर के कार्यक्रम से दूरी बनाए रखी. इसके अलावा राज्यसभा चुनाव के दौरान भी राजभर के एक विधायक ने क्रॉस वोटिंग की थी. बीजेपी ने तीनों असंतुष्ट विधायकों को अपने पाले में लाने की कोशिशें तेज कर दी है. 

2002 में बसपा से अलग होकर ओमप्रकाश राजभर ने सुभासपा का गठन किया था. 2017 में वे पहली बार विधानसभा पहुंचे थे और मंत्री भी बने थे. राजभर के साथ उनकी पार्टी के तीन सदस्य भी जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं. साल 2017 के विधानसभा चुनाव में सुभासपा ने बीजेपी के साथ मिलकर आठ सीटों पर चुनाव लड़ा था. राजभर खुद गाजीपुर की जहूराबाद सीट से चुनाव जीते थे. त्रिवेणी राम भी इसी जिले की जखनिया और कैलाशनाथ सोनकर वाराणसी की अजगरा और रामानंद बौद्ध कुशीनगर की रामकोला सीट से चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे.

First Published: May 22, 2019 11:12:48 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो