मायावती ने किया दिल्ली में संत रविदास मंदिर को तोड़ने का विरोध, मोदी और केजरीवाल सरकार पर लगाए आरोप

Dalchand  |   Updated On : August 14, 2019 11:11:07 AM
बसपा सुप्रीमो मायावती (फाइल फोटो)

बसपा सुप्रीमो मायावती (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

दिल्ली के तुगलकाबाद इलाके में संत रविदास मंदिर को ढहाने का विरोध शुरू हो गया है. इस कार्रवाई पर पूरे देश में आपत्ति जताई जा रही है. बहुजन समाज पार्टी ने भी संत रविदास मंदिर को ढहाने का विरोध किया है. बसपा मुखिया मायावती ने केंद्र की मोदी सरकार और दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर मिलीभगत से मंदिर को गिराने का आरोप लगाया है.

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश सरकार की बदनामी करवाने वाले पुलिस अफसर नपेंगे, जुटाया जा रहा काले कारनामों का चिट्ठा

मायावती ने केंद्र और दिल्ली सरकार पर निशाना साधते हुए बुधवार को ट्वीट कर कहा, 'दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में बना संत रविदास मंदिर केंद्र और दिल्ली सरकार की मिलीभगत से गिरवाये जाने का बीएसपी ने सख्त विरोध किया. इससे इनकी आज भी हमारे संतों के प्रति हीन और जातिवादी मानसिकता साफ झलकती है.'

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'बीएसपी की मांग है कि इस मामले में ये दोनों सरकारें (केंद्र और दिल्ली सरकार) कोई बीच का रास्ता निकालकर अब अपने खर्चे से ही संत रविदास के मंदिर का पुननिर्माण करवाएं.'

यह भी पढ़ें- योगी सरकार का 'Green UP' प्लान, लखनऊ समेत इन 11 शहरों में चलेंगी 600 इलेक्ट्रिक बसें

बता दें कि दिल्ली विकास प्राधिकरण यानी डीडीए ने शनिवार को तुगलकाबाद इलाके में बने संत रविदास मंदिर को गिरा दिया था. रविदास का यह लगभग 600 साल पुराना मंदिर था. डीडीए का कहना है कि गुरु रविदास जयंती समारोह समिति ने मंदिर को जंगल की जमीन पर बनाया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद भी इस जगह को खाली नहीं किया गया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस जगह को मंदिर का ढांचा गिराकर खाली कराया गया है.

यह वीडियो देखें- 

First Published: Aug 14, 2019 11:11:07 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो