भारत से नेपाल की दूरी 40 किमी होगी कम, बन रहा एक और नया रास्ता

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : November 30, 2019 11:17:09 AM
भारत नेपाल बॉर्डर

भारत नेपाल बॉर्डर (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

गोरखपुर:  

भारत से नेपाल की राह अब और आसान होने जा रही है. जल्द भी भारत से नेपाल के लिए एक नया रास्ता तैयार होने जा रहा है. इसके बनने के बाद भारत से नेपाल की दूरी करीब 40 किमी कम हो जाएगी. महराजगंज जिले में पुरंदरपुर-रानीपुर-खालिकगढ़ मार्ग पर रोहिन नदी के चानकी घाट पर सात वर्ष पहले 3.30 करोड़ की लागत से पुल का निर्माण हुआ. अभी तक यहां एप्रोच रोड नहीं बन सका है. इसके लिए जमीन की दिक्कत सामने आ रही है. अगर इस एप्रोच का निर्माण हो जाता है तो गोरखपुर से नेपाल और महराजगंज से सोनौली जाने वालों को 40 किमी दूरी कम तय करनी पड़ती.
PWD ने एप्रोच के लिए 1.20 करोड़ का प्रस्ताव मुख्यालय को भेजा है.

20 साल पहले शुरू हुआ पुल का निर्माण
चानकीघाट पर पुल निर्माण का काम 1998-99 में शुरू हुआ. इस पुल के निर्माण में कई रोड़े सामने आए. इस पुल का निर्माण मई 2012 में पूरा हुआ. पुल निर्माण के बाद भी अभी तक एप्रोच का काम पूरा नहीं हो सका है. इसके लिए दो वर्ष पहले सिटीजन फोरम महराजगंज व भारतीय किसान यूनियन ने जल सत्याग्रह किया. प्रशासन ने जब मांग को पूरा करने की कोशिश की तो वन विभाग की जमीन आड़े आ गई.

गोरखपुरवासियों को होगा सबसे अधिक लाभ
इस पुर के आवागमन से आसपास के दो दर्जन गांवों के लोगों की सोनौली की राह आसान हो जाएगी. अभी इन लोगों को निचलौल के रास्ते जाना पड़ता है. चानकीघाट पुल चालू होने से गोरखपुर को नेपाल के लिए एक और रास्ता मिल जाएगा जो महराजगंज होते हुए महेशपुर बार्डर चला जाएगा. महेशपुर बार्डर पर बाईपास बन रहा है. पोखरा व काठमांडू जाने के लिए महेशपुर बार्डर का रास्ता गोरखपुर वासियों के लिए ज्यादा मुफीद होगा.

First Published: Nov 30, 2019 11:17:09 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो