BREAKING NEWS
  • Indian Railway: दिवाली और छठ के लिए नहीं मिला कन्फर्म टिकट तो घबराएं नहीं, इन नई ट्रेनों में करा सकते हैं रिजर्वेशन- Read More »
  • अकाल तख्त (Akal Takht) प्रमुख बोले- बैन हो आरएसएस मोहन भागवत (RSS Chief Mohan Bhagwat) का बयान देशहित में नहीं- Read More »
  • बिहार : डेंगू के मरीजों को देखने गए केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर दो युवकों ने फेंकी स्याही, देखें VIDEO- Read More »

अगर आप भी इस्तेमाल कर रहें हैं ट्रू-कॉलर तो ये खबर आप के लिए ही है, पढ़ लीजिए नहीं तो खाता हो सकता है खाली

News State Bureau  |   Updated On : August 22, 2019 01:58:08 PM
प्रतीकात्मक फोटो।

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  ट्रूकॉलर पर नाम बदल कर हो रही है ठगी
  •  बैंक के नाम से सेव कर रहे हैं नंबर
  •  नोएडा में युवक हुआ ठगी का शिकार

नोएडा:  

लोगों को चूना लगाने के लिए साइबर ठगों ने अब एक नया तरीका ढूंढ निकाला है. साइबर अब मोबाइल एप ट्रू-कॉलर के सहारे आपका बैंक अकाउंट खाली करने की फिराक में हैं. अब आप सोच रह होंगे कि ट्रू कॉलर के जरिए आखिर कोई कैसे आपके खाते से पैसा निकाल सकता है. तो हम बता दें कि ऐसा हो चुका है.

यह भी पढ़ें- साक्षी मिश्रा ने बरेली में कराया विवाह का पंजीकरण

जीं हां, नोएडा में ट्रू-कॉलर के जरिए बैंक धोखाधड़ी का मामला सामने आया है. पीड़ित को अपने ठगे जाने का पता एक दिन के बाद चला. ठग ने पीड़ित के खाते से हजारों रुपये उड़ा लिए. पीड़ित ने सेक्टर-24 में मुकदमा दर्ज करवाया है. बैंक फ्रॉड पीड़ित प्रकाश नारायण ने अपनी तहरीर में बताया है कि उसके मोबाइल पर एक कॉल आई.

यह भी पढ़ें- बारिश के कारण धंसी कब्र की मिट्टी, अंदर देखा तो आंखे फटी की फटी रह गई

फोन में मौजूद एप ट्रू-कॉलर के मुताबिक फोन पर SBI बैंक मैनेजर लिखा आ रहा था. जब फोन उठाया तो कॉल करने वाले ने अपना नाम रोहित भारद्वाज बताया. साथ ही उसने यह बताया कि वह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का बैंक मैनेजर बोल रहा है. ठग ने प्रकाश से कहा कि उसका एटीएम कार्ड बंद हो गया है.

यह भी पढ़ें- मंत्रालय में परिवारवाद न आए इस लिए योगी ने नए मंत्रियों को दी ये सलाह 

उसे चालू करा लीजिए. कार्ड चालू करने के लिए ठग ने पीड़ित से किसी दूसरे बैंक का खाता नंबर, एटीएम कार्ड नंबर, पिन और सीवी नंबर मांगा. जिसे पीड़ित ने दे दिया. थोड़ी देर बाद प्रकाश को फिर फोन आया और बताया गया कि उसका एटीएम कार्ड फिर से एक्टिव कर दिया गया है. इसे थोड़ी ही देर के बाद प्रकाश के खाते से 10-10 हाजर रुपये तीन बार में निकाल लिए गए.

यह भी पढ़ें- UP पुलिस का एक चेहरा यह भी- 'मसीहा बनकर युवक को मौत के मुंह से निकाला' 

प्रकाश ने वापस फोन किया तो बताया गया कि यह गारंटी मनी है. अगले 12 से 14 घंटे के भीतर पैसा वापस आ जाएगा. लेकिन जब दो दिन बीतने के बाद भी पैसा नहीं मिला तो प्रकाश को समझ आया कि वह ठगी का शिकार हो चुका है.

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश सरकार के 4 मंत्रियों से यूं ही नहीं लिए गए इस्तीफे, जानिए पूरा कारण 

पीड़ित का कहना है कि ट्रू-कॉलर पर SBI बैंक मैनेजर लिखे होने के कारण वह झांसे में आ गया. टेक्निकल जानकारों का कहना है कि ट्रूकॉलर में कोई भी अपना नाम जो चाहे वह बदल सकता है. इस लिए जरूरी नहीं कि जो नाम स्क्रीन पर लिख कर आ रहा हो वही सही हो.

First Published: Aug 22, 2019 01:58:01 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो