BREAKING NEWS
  • PMC बैंक में इस स्कूल के फंसे करोड़ों रुपये, शिक्षक समेत 400 कर्मचारियों का अटका वेतन- Read More »
  • जिस गांव के पास भारत ने किया था परमाणु परीक्षण वहां बम मिलने से मचा हड़कंप- Read More »

One Nation, One Language के विरोध में उतरे रजनीकांत, कहा- हिंदी थोपी गई तो पूरा दक्षिण भारत करेगा विरोध

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : September 18, 2019 02:08:08 PM

(Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

सुपरस्टार रजनीकांत ने वन नेशन वन लेंग्वेज का विरोध किया है. उन्होंने बुधवार को कहा, हिंदी को नहीं थोपा जाना चाहिए. अगर ऐसा हुआ तो न केवल तमिलनाडु बल्कि दक्षिण भारत के सभी राज्य इसका विरोध करेंगे. देश को एकजुट रखने के लिए किसी एक कॉमन लेंग्वेज का होना जायज है लेकिन इसे थोपा जाना गलत है.

यह भी पढ़ें: पाकिस्‍तान के ये घुसपैठिए चट कर जा रहे हैं 35000 लोगों का खाना, राजस्‍थान के इतने जिले प्रभावित

इससे पहले तमिलनाडु की राजनीतिक पार्टी मक्कल निधि माईम के प्रमुख और दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्‍टार अभिनेता कमल हासन भी वन नेशन वन लेंग्वेज का विरोध कर चुके हैं. उन्होंने कहा था, हम एक बार फिर दोहराना चाहेंगे कि तमिल हमारा गौरव है और हम इसे नहीं छोड़ेंगे. जब यह एक गणराज्य बना तब इसे संरक्षित करने के लिए हमसे वादा किया गया था. हम कई भाषाओं को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं लेकिन हिन्दी वह भाषा है जिसका हम विरोध करेंगे.

यह भी पढ़ें:  भारत में आतंकी चंद्रमा से नहीं पाकिस्तान से आते हैं, जानें किसने कही ये बात

इसके पहले कमल हासन ने ट्वीट करते हुए कहा था कि देश में एक भाषा को थोपा नहीं जा सकता. ऐसा होने पर बड़ा आंदोलन किया जाएगा. कमल हासन ने कहा कि कोई शाह, सुल्तान या सम्राट अचानक वादा नहीं तोड़ सकता. 1950 में जब भारत गणतंत्र बना तो ये वादा किया गया था कि हर क्षेत्र की भाषा और संस्‍कृति का सम्‍मान किया जाएगा.

First Published: Sep 18, 2019 02:08:08 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो