BREAKING NEWS
  • बिहार-झारखंड ब्रेकिंग : बिहार उपचुनाव- पांच सीटों पर आज हो रहा मतदान - Read More »
  • कमलेश तिवारी हत्याकांड में हुआ एक और खुलासा, अब सामने आया कानपुर कनेक्शन- Read More »
  • Amazon Great Indian Festival Sale: स्मार्टफोन्स पर 40% तक का मिल रही है छूट, जल्दी करें!- Read More »

कांग्रेस के 'बुरे दिन', राजस्थान सरकार में भी फूट, इस मामले में अशोक गहलोत और सचिन पायलट आमने-सामने

News State Bureau  |   Updated On : July 12, 2019 07:59:04 AM
सीएम अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (फाइल फोटो)

सीएम अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

कर्नाटक और गोवा के बाद अब राजस्थान कांग्रेस में फूट पड़ गई है. केंद्र में एनडीए की सरकार बनने के बाद से कई राज्यों में खींचतान शुरू हो गई है. अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और सचिन पायलट (Sachin Pilot) अब खुलकर आमने-सामने आ गए हैं. सचिन पायलट कह रहे हैं कि जनता ने अशोक गहलोत के नाम पर वोट नहीं दिया और ऐसा ही आरोप अशोक गहलोत भी सचिन पायलट पर लगा रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः PM नरेंद्र मोदी के मुरीद हुए पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम, अर्थव्यवस्था लक्ष्य पर मानी सरकार की बात

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के बारे में कहा जाता है कि उन्हें पता है कि कब, कहां और कितना बोलना है. बजट पेश करने के बाद अशोक गहलोत ने सीएम बनने के 8 महीने बाद आखिरकार उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को साफ कर दिया कि वह राजस्थान का मुख्यमंत्री बनने का मंसूबा ना पालें. अशोक गहलोत ने कहा कि विधानसभा चुनाव में लोगों ने उनके नाम पर वोट दिए हैं. इसके चलते कांग्रेस ने उनको मुख्यमंत्री बनाया है. किसी और के नाम पर वोट नहीं मिले हैं. जो मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में भी नहीं थे वह भी अपना नाम आगे ला रहे हैं.

दरअसल, कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के मुख्यमंत्री बनने के छुपे हुए अभियान से परेशान हैं और बजट पेश करने के बाद इस मुद्दे पर आरपार करने के मूड में हैं. अशोक गहलोत ने इशारों-इशारों में साफ कर दिया है कि मैं ही राजस्थान का बॉस हूं. यहां दो नेता नहीं चलेंगे, लेकिन 5 साल तक राजस्थान का प्रदेश अध्यक्ष रहकर विधानसभा चुनाव में नेतृत्व करने वाले नौजवान नेता सचिन पायलट कहां चुप बैठने वाले थे.

यह भी पढ़ेंः पत्नी की हत्या करके शख्स ने पुलिस को कहा- मैं नहीं आ सकता, बच्चा सो रहा है...आकर गिरफ्तार कर लो

वहीं, सचिन पायलट को लगता है कि 5 साल तक हमने मेहनत की और जब मलाई खाने का वक्त आया तो गहलोत टपक पड़े. सचिन पायलट को लगता था कि लोकसभा चुनाव (LOk Sabha Election) के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी उनको मौका देंगे, मगर कोई कुछ नहीं बोल रहा है तो सचिन पायलट की भी बेसब्री बढ़नी लाजमी है. बिना पत्रकारों के सवाल पूछे ही सचिन पायलट ने कहा कि राजस्थान में सरकार कार्यकर्ताओं की मेहनत से बनी है और राहुल गांधी के नाम पर बनी है न कि किसी और के नाम पर बनी है.

सचिन पायलट ने बजट पर बोलने के लिए पत्रकारों को बुलाया था मगर किसी ने अशोक गहलोत के बयान पर प्रतिक्रिया नहीं मांगी तो खुद ही बोल दिया और पत्रकारों को यह भी कह दिया कि आप लोग कठिन सवाल नहीं पूछते. माना जा रहा है कि राजस्थान में दोनों के बीच की लड़ाई अब इस स्तर पर पहुंच गई है कि अगर इस मुद्दे पर जल्द कोई फैसला नहीं हुआ तो पार्टी के लिए ठीक नहीं होगा और राज्य में सरकार चलाना भी कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगा.

First Published: Jul 11, 2019 05:45:28 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो