BREAKING NEWS
  • बन गई बात, महाराष्ट्र में शिवसेना संग गठबंधन पर कांग्रेस कार्यकारिणी ने लगाई मुहर- Read More »

राजस्थान के कई इलाकों में भारी बारिश, मरने वालों की संख्या 13 हुई

BHASHA  |   Updated On : July 27, 2019 11:13:15 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

राजस्थान के पूर्वी और पश्चिमी भाग में बारिश का दौर शनिवार को भी जारी रहा और पिछले लगातार तीन दिन से चल रही बारिश से राज्य की कई मौसमी नदियों में पानी आ गया और अनेक तालाब लबालब हो गए हैं. इस बीच राज्य में बीते दो दिन में वर्षा जनित हादसों में मरने वालों की संख्या 13 हो गई है.

यह भी पढ़ेंः कश्मीर से धारा-35A हटाने की उल्टी गिनती शुरू! 10 हजार सैनिक तैनात

राहत सचिव आशुतोष पेडनेकर ने बताया कि राज्य में वर्षाजनित हादसों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है. उन्होंने बताया कि सीकर में छह, जयपुर में चार व झुंझुनू में तीन लोगों की मौत हुई है. शनिवार को सबसे अधिक बारिश जयपुर शहर व इसके पास चाकसू में दर्ज की गई. मौसम विभाग का कहना है कि बारिश का यह दौर अभी जारी रहेगा और अगले चौबीस घंटे में भी राज्य के अनेक भागों में भारी या बहुत भारी बारिश हो सकती है.

बीते चौबीस घंटे की बात की जाए तो जिन स्थानों पर 10 सेंटीमीटर से अधिक बारिश दर्ज की गई उनमें पूर्वी राजस्थान के बस्सी में 21 सेमी., चाकसू में 18 सेमी., भिनाय में 17 सेमी., बनेड़ा में 15 सेमी., कोटड़ी में 14 सेमी., पलसाग में 13 सेमी., खांडर में व सांगानेर में 11—11 सेमी. तथा वनस्थली, निवाय, जमवारामगढ़ तथा फागी में 10—10 सेमी बारिश दर्ज की गयी। अनेक जगहों पर इससे कम मात्रा में बारिश हुई.

यह भी पढ़ेंः सरकार ने राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास कराने के लिए बनाया ये प्लान

वहीं, पश्चिमी राजस्थान में इसी दौरान मेड़ता सिटी में 13 सेंटीमीटर, रायपुर पाली में नौ सेंटीमीटर व जैतारण में सात सेंटीमीटर बारिश हुई. मौसम विभाग का कहना है कि शनिवार को जयपुर में 38.8 मिलीमीटर तथा कोटा में 31.4 मिमी. बारिश दर्ज की गई. विभाग का कहना है कि अगले चौबीस घंटे में पूर्वी व पश्चिम राजस्थान के अनेक हिस्सों में भारी या बहुत बारिश की चेतावनी दी है. राजधानी जयपुर में शुक्रवार रात के बाद शनिवार सुबह व दोपहर में अच्छी खासी बारिश हुई.

राज्य में बारिश का यह क्रम बीते तीन दिन से चल रहा है और इससे पावर्ती, कोठारी व बनास जैसी मौसमी नदियों में पानी आ गया है. इसके साथ ही लंबे समय से खाली पड़े कई पुराने तालाब व छोटे बांध भी भर गए हैं.

First Published: Jul 27, 2019 11:13:15 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो