BREAKING NEWS
  • बिहार के गौतम बने 'KBC 11' के तीसरे करोड़पति, कहा-पत्नी की वजह से मिला मुकाम- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »
  • IND vs SA, Live Cricket Score, 1st Test Day 1: भारत ने टॉस जीता पहले बल्‍लेबाजी- Read More »

सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल, पूरी दुनिया मासूम अली की मदद के लिए खड़ी, Social Media बना सहारा

News State Bureau  |   Updated On : July 14, 2019 04:43:21 PM
An example of communal harmony in Rajasthan the whole world came

An example of communal harmony in Rajasthan the whole world came (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  मासूम अली की मदद के लिए पूरी दुनिया खड़ी
  •  अली की इलाज के लिए पैसे नहीं होने पर चलाया अभियान
  •  सोशल मीडिया बना सहारा

नई दिल्ली:  

नागौर जिले के कुचामन सिटी का 8 साल का अली गंभीर बीमारी से जूझ रहा है. कमजोर स्थिति के चलते उसका इलाज कराने में मुश्किलों का सामना कर रहे परिवार की आवाज जब सोशल मीडिया के जरिये लोगों तक पहुंची तो कुचामन ही नहीं, बल्कि आस-पास के क्षेत्रों के साथ देश और विदेश में रह रहे हिंदुस्तानी भी मदद के लिए खड़े नजर आए. अली के परिवार की मदद का मैसेज सोशल मीडिया पर शेयर होने के महज 2 दिन में अली की मदद के लिए लाखों रुपये जमा हो गए. कुचामन सिटी को पूरे प्रदेश में सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल माना जाता रहा है और ये बात हकीकत में भी नजर आ रही है.

यह भी पढ़ें - पुलिस हिरासत में दलित की मौत, भाभी का आरोप पुलिस वालों ने 8 दिनों तक किया गैंगरेप

जब अली की मदद के लिए शुरू की गई मुहिम को कुचामन के हर वर्ग, हर समुदाय से जुड़े लोगों ने समर्थन देते हुए उसमें भरपूर सहयोग किया. सिर्फ कुचामनसिटी की बात करें तो पूरा शहर अली के परिवार के साथ खड़ा नजर आया. मैसेज पढ़ने के बाद ना जाने कितने लोग इस मुहिम से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से जुड़ते गए. नतीजतन महज 40 घंटे में कुचामन सिटी के लोगों ने अली की मदद के लिए 9 लाख रुपये जमा कर लिए. जमा किये गए रुपयों को शहर के मदरसा इस्लामिया सोसायटी के मुसाफिरखाना में अली के परिजनों मोहम्मद सलीम व मनसब खान को सौंपा गया.

यह भी पढ़ें - राजस्थान: पुलिस हेड कांस्टेबल की लोगों ने पीट-पीटकर की हत्या, इलाज के दौरान मौत

इस मौके पर कई लोग मौजूद रहे. लोगों ने अली की मदद के लिए सोशल मीडिया पर अल मदद नाम से अभियान चलाया. उसके बाद तो मदरसा इस्लामिया सोसायटी के उपाध्यक्ष हबीब सोलंकी सहित कई लोगों ने इस मुहिम में साथ दिया. नतीजतन कुछ घंटों में ही अली की मदद के लिए कुचामन, मकराना, नावां, डीडवाना जैसे आसपास के क्षेत्रों के साथ देश और प्रदेश से ही नहीं बल्कि विदेशों से भी अली की मदद के लिए समर्थन जुटता हुआ दिखाई दिया. दुबई, ओमान, कतर, सऊदी अरब, अमेरिका सहित कई देशों से भी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के जरिये अली के लिए लोग मुहिम से जुड़ते चले गए.

यह भी पढ़ें - बांग्लादेश की आजादी में जनरल सगत सिंह की भूमिका राजस्थान की पाठ्यक्रम में होंगे शामिल

मासूम अली के इलाज के लिए जब कुचामनसिटी के लोगों ने अली के परिजनों को 9 लाख रुपये सौंपे तो उस वक्त अली के परिजनों ने सार्वजनिक रूप से ये एलान भी किया कि आज पूरी दुनिया अली के साथ खड़ी है. हर धर्म हर वर्ग के लोग अली के लिए दुआ कर रहे हैं. अगर अली के ईलाज के बाद जो राशि बचती है उससे एक फाउण्डेशन वजूद में लाया जाएगा. इस फाउंडेशन के मकसद यही होगा कि जब भी शहर में किसी जरूरतमंद को इलाज में दिक्कत आएगी तो वो फाउंडेशन, फंड के जरिये मदद मुहैया कराएगा. ईलाज या दवाई के लिए किसी जरूरतमंद को भटकना नहीं पड़ेगा.

First Published: Jul 14, 2019 04:43:21 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो