CAB पर ऐसे ही नहीं उद्धव ठाकरे ने लिया U-Turn, कांग्रेस ने दी थी सरकार गिराने की धमकी!

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : December 11, 2019 08:06:10 AM
ऐसे ही नहीं उद्धव ने लिया यू-टर्न, सरकार गिराने की धमकी मिली थी

ऐसे ही नहीं उद्धव ने लिया यू-टर्न, सरकार गिराने की धमकी मिली थी (Photo Credit : PTI )

नई दिल्‍ली :  

लोकसभा (Lok Sabha) में नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill 2019) का समर्थन करने वाली शिवसेना (Shiv Sena) ने यूं ही पलटी नहीं मारी थी. दरअसल, मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस नेतृत्‍व (Congress Leadership) ने इसके लिए नाराजगी जताई थी और खबर तो यह भी आ रही है कि नाराज कांग्रेस ने उद्धव ठाकरे (Udhav Thackerey) की सरकार को गिराने की धमकी दी थी. कांग्रेस (Congress) की ओर से कहा गया कि कुछ मंत्रालय हमारे लिए अहमियत नहीं रखते. इसके तत्‍काल बाद शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा था, कल जो लोकसभा में हुआ भूल जाइए, लेकिन देखना है कि राज्यसभा (Rajya Sabha) में शिवसेना क्या करती है.

यह भी पढ़ें : शिवसेना के U-Turn के बाद क्‍या है राज्‍यसभा का गणित, मोदी सरकार कैसे पास कराएगी CAB

संजय राउत के ट्वीट के बाद से ही कयास लगाए जाने लगे कि शिवसेना का नागरिकता संशोधन बिल को लेकर रुख साफ नहीं है और पार्टी अपना स्‍टैंड बदल भी सकती है और हुआ भी वहीं. दोपहर बाद महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बयान दिया कि जब तक चीजें साफ नहीं हो जातीं, तब तक शिवसेना राज्‍यसभा में नागरिकता संशोधन बिल पर मोदी सरकार का साथ नहीं देगी. चीजें साफ होने से उद्धव ठाकरे का मतलब नागरिकता संशोधन बिल को लेकर शिवसेना की मांग मानने को लेकर था. दरअसल, शिवसेना ने बिल का समर्थन करते हुए लोकसभा में मांग की थी कि जिन लोगों को नागरिकता दी जाएगी, उन्‍हें अगले 25 वर्षों तक वोटिंग का अधिकार न दिए जाएं.

उद्धव ठाकरे के बयान से ठीक पहले राहुल गांधी ने एक ट्वीट किया था. राहुल गांधी ने मंगलवार को किए गए ट्वीट में कहा था, नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 भारतीय संविधान पर हमला है. जो कोई भी इसका समर्थन करता है, वह हमारे राष्ट्र की नींव को नष्ट करने का प्रयास कर रहा है. राहुल गांधी के ट्वीट को शिवसेना से नाराजगी के रूप में देखा गया और इसके ठीक बाद ही उद्धव ठाकरे का आधिकारिक बयान भी आ गया. उद्धव ठाकरे ने अपने बयान में कहा कि शिवसेना नहीं चाहती कि इस तरह के फैसले के बाद किसी पार्टी को वोट बैंक की राजनीति करने का मौका मिले.

यह भी पढ़ें : अदनान सामी फॉमूर्ले से ही बाहरी मुस्लिमों को नागरिकता देने का पक्षधर है राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ

इस बीच शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने कहा था, राष्ट्र हित की भूमिका लेकर शिवसेना हमेशा खड़ी रहती है और इस पर किसी का एकाधिकार नहीं हो सकता है. शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर सवाल भी उठाए गए थे. सामना में लिखा गया, क्या हिंदू अवैध शरणार्थियों की 'चुनिंदा स्वीकृति' देश में धार्मिक युद्ध छेड़ने का काम नहीं करेगी. यही नहीं, सामना में केंद्र की मोदी सरकार पर विधेयक को लेकर हिंदुओं तथा मुस्लिमों का 'अदृश्य विभाजन' करने का आरोप भी लगाया गया.

First Published: Dec 11, 2019 08:05:00 AM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो