शिवसेना को डराने और धमकाने की कोशिश न करे बीजेपी, नहीं करेंगे बर्दाश्त: संजय राउत

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : November 14, 2019 12:32:51 PM
संजय राउत

संजय राउत (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली:  

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी से कहा कि वह उन्हें डराने या धमकाने की कोशिश न करें और शिवसेना को अपना राजनीतिक रास्ता चुनने दें. राउत ने मीडिया में कहा, 'हम लड़ने और मरने के लिए तैयार हैं, लेकिन धमकी या जबरदस्ती की रणनीति को बर्दाश्त नहीं करेंगे.' राउत बीजेपी के अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बीते लोकसभा चुनाव से पहले बंद दरवाजों के पीछे सत्ता के बंटवारे के फामूर्ले पर की गई टिप्पणियों का जिक्र कर रहे थे.

राउत ने कहा, 'मैंने सुना कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि देवेंद्र फणनवीस ही महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे..यहां तक की सेना भी बार-बार दोहरा रही है कि उनका मुख्यमंत्री ही शपथ लेगा.' वहीं शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा था कि मुख्यमंत्री के पद के साथ ही सेना को 50:50 की सत्ता-साझेदारी मिलने की बात हुई थी.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार को सुप्रीम कोर्ट की क्‍लीनचिट, राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पुनर्विचार याचिका

हालांकि, शाह और फडणवीस ने इसे खारिज कर दिया और ठाकरे को झूठा बता कर उन पर भाजपा के साथ गठबंधन खत्म करने का आरोप लगा दिया. राउत ने कहा, 'आपने बंद दरवाजे के पीछे लिए गए फैसलों को लेकर प्रधानमंत्री मोदी को जानकारी क्यों नहीं दी? चुनाव परिणाम आने तक साझेदारी से मना करने के लिए आप अब तक चुप क्यों रहे?' उन्होंने कहा कि बीजेपी हमेशा से बंद दरवाजों के पीछे लिए गए फैसलों को जनता के सामने लाने से मना करती है, लेकिन अगर उन्होंने अपने शब्द और वादे पूरे किए होते, तो मामला कभी भी खुलकर सामने नहीं आता. सोमवार को एंजियोप्लास्टी कराने के बाद राउत ने पहली बार मीडिया से बातचीत की.

उन्होंने कहा, शिव सेना राजनीति का व्यापार नहीं करती है. शिव सेना ने हमेशा बाला साहेब ठाकरे पर सम्मान रखा है. बाला साहेब ठाकरे के कमरे में ये बात हुई थी. उसी कमरे में ये बात हुई है. हम बाला साहेब ठाकरे की कसम खाते हैं हम झूठ नहीं बोलते. बंद कमरे की चर्चा का मान अमित शाह ने नहीं रखा है तब ये बात बाहर आ रही है. 

यह भी पढ़ें: सबरीमाला मामले पर सुप्रीम कोर्ट का बहुमत से आदेश, बड़ी संविधान पीठ को सौंपा जाए मामला

संजय राउत ने कहा,  बंद करने की बातों से अमित भाई ने प्रधानमंत्री को अवगत नहीं कराया है. अमित भाई का कहना है कि बंद कमरे की बातें बाहर नहीं आती है. ये बात महाराष्ट्र के स्वाभिमान की बात है. ये बात अगर तय है तो सामने आनी चाहिए. हम महाराष्ट्र की स्मिता के लिए लडाई लड़ते हैं ना कि किसी लाभ के लिए.

First Published: Nov 14, 2019 12:30:54 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो