BREAKING NEWS
  • Today History: आज ही के दिन मदर टेरेसा को शांति के लिये नोबेल पुरस्कार दिया गया था, जानें आज का इतिहास- Read More »
  • रामपुर में आज एक बार फिर आमने-सामने होंगे आजम खान और जया प्रदा- Read More »
  • शोएब अख्‍तर बोले, सौरव गांगुली मुझसे डरते नहीं थे, लेकिन फिर ये क्‍या कह दिया- Read More »

Malegaon bomb blast case: पेशी के लिए NIA कोर्ट पहुंचीं प्रज्ञा सिंह ठाकुर

NEWS STATE BUREAU  |   Updated On : June 07, 2019 01:48:09 PM
भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर

भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

मालेगांव बम धमाके की आरोपी और हाल ही में भोपाल से बीजेपी सांसद बनीं प्रज्ञा ठाकुर शुक्रवार को एनआईए कोर्ट पहुंची. उन्हें गुरुवार को भी कोर्ट में पेश होना था लेकिन वह पहुंच नहीं सकी थीं. इस हफ्ते यह दूसरा मौका था, जब वह कोर्ट में पहुंच नहीं सकीं. इससे प्रज्ञा के वकील प्रशांत मागू ने कोर्ट से कहा, वह हाई ब्लड प्रेशर से परेशान हैं और सफर नहीं कर सकतीं. हालांकि अदालत ने उन्हें एक दिन की मोहलत देते हुए शुक्रवार को पेश होने के लिए निर्देश दिया था, अन्यथा परिणाम भुगतने के लिए तैयार होने को कहा था.

यह भी पढ़ें- बंगाल में बीजेपी के विजय जुलूस पर ममता दीदी ने लगाई रोक, दी चेतावनी

वहीं, प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) की सहयोगी उपमा ने मीडिया को दी जानकारी में बताया था कि एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद वह उपचार के लिये अस्पताल लौट आयेंगी. उपमा ने कहा था, 'वह ठीक नहीं है. उन्हें उपचार के लिये कल रात अस्पताल में भर्ती किया गया था. वह पेट की बीमारी से पीड़ित हैं और उन्हें इंजेक्शन से दवाइयां दी गयीं. कार्यकर्ताओं के जोर के कारण उन्हें एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिये सुबह अस्पताल से जाने दिया गया लेकिन इसके बाद वह उपचार के लिये अस्पताल वापस आ जायेंगी क्योंकि उनकी तबीयत ठीक नहीं है.'

प्रज्ञा ने हालही में हुए लोकसभा के आमचुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को भोपाल लोकसभा सीट पर पराजित किया था. प्रज्ञा 2008 में हुए मालेगांव बम विस्फोट मामले में आरोपी हैं और फिलहाल जमानत पर हैं. मालूम हो कि इस सप्ताह अदालत में पेश होने से छूट देने का प्रज्ञा का आवेदन, सोमवार को एनआईए जज वीएस पडालकर ने खारिज कर दिया था. आवदेन में प्रज्ञा ने कहा था कि उन्हें संसद की औपचारिकताएं पूरी करनी हैं. अदालत ने इस पर कहा कि मामले में इस स्तर पर अदालत में उसकी उपस्थिति आवश्यक है.

First Published: Jun 07, 2019 12:46:32 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो