मालेगांव बम ब्लास्ट पीड़ित के पिता ने साध्वी के चुनाव लड़ने पर उठाए सवाल, कहा...

News State Bureau  |   Updated On : April 18, 2019 05:15:58 PM
साध्वी प्रज्ञा सिंह. (फाइल फोटो)

साध्वी प्रज्ञा सिंह. (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Sadhvi pragya) को भाजपा ने भोपाल से मैदान में उतारा है. साध्वी का नाम 2008 मालेगांव बम ब्लास्ट में आया था. उम्मीदवारी की घोषणा के साथ ही विपक्षी दल साध्वी के खिलाफ लामबंद हो गए हैं. इसी बीच मालेगांव बम ब्लास्ट के एक पीड़ित के पिता ने साध्वी के चुनाव लड़ने पर सवाल उठाए हैं. पीड़ित के परिजन ने कहा है कि एनआईए कोर्ट में साध्वी ने अपने खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर जमानत ली थी, ऐसे में जब उनका स्वास्थ्य खराब है तो वह चुनाव कैसे लड़ सकती हैं. भाजपा ने बुधवार को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को दिग्विजय सिंह के सामने मैदान में उतारा है.

यह भी पढ़ें- दिग्‍विजय सिंह के खिलाफ भोपाल सीट पर साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर को उतारने के पीछे ये है असली वजह

आपको बता दें कि भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनावी ताल ठोक रहीं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जहां इसे धर्मयुद्ध करार दे रही हैं, वहीं विरोधी प्रज्ञा के खिलाफ मालेगांव ब्लास्ट को लेकर हमलावर रुख अख्तियार कर चुके हैं. नेशनल कान्फ्रेन्स के नेता उमर अब्दुल्ला ने तो प्रज्ञा की जमानत रद्द कर उन्हे जेल भेजने तक की मांग कर डाली है.

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर बीजेपी की तरफ से भोपाल लोकसभा सीट पर दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में क्या उतरीं, विरोधियों ने बीजेपी के साथ साथ प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है. मालेगांव ब्लास्ट के आरोपों को लेकर विपक्षी दल प्रज्ञा ठाकुर पर हमला वर बने हुए हैं. आरोप लगा रहे हैं कि बीजेपी प्रज्ञा ठाकुर के बहाने देश भर में ध्रुवीकरण की कोशिश कर रही ताकि चुनाव में फायदा उठा सके. नेशनल कान्फ्रेन्स के नेता उमर अब्दुल्ला ने तो साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की जमानत रद्द कर उन्हे दोबारा जेल भेजने की मांग कर डाली है. उमर अब्दुल्ला का तर्क है कि प्रज्ञा बीमारी के बहाने जेल से मिली आजादी का गलत फायदा उठा रही हैं.

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: साध्वी के खिलाफ लामबंद हुए विरोधी, जमानत रद्द करने की मांग तक कर डाली

वहीं विरोधियों के हमले से बेपरवाह साध्वी प्रज्ञा ठाकुर दिग्विजय के खिलाफ जीत हासिल करने को लेकर आश्वस्त हैं. प्रज्ञा इस चुनावी जंग को धर्मयुद्ध की संज्ञा दे रही हैं और उनका कहना है कि भगवा आतंकवद की आड़ में जिस तरह से उन्हे कांग्रेस सरकार ने प्रताड़ित किया. वे इस मुद्दे को जनता के बीच ले जाएंगी.

First Published: Apr 18, 2019 04:59:48 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो