BREAKING NEWS
  • Breast Cancer: इन लक्षणों को पहचान लें, नहीं तो स्‍तन कैंसर ले लेगा जान- Read More »
  • उत्तराखंड: उत्तरकाशी के मोरी प्रखंड में बादल फटा, 5 लोग पानी में बहे, देखें VIDEO- Read More »
  • Today History: आज के ही दिन अफसाना निगार गुलज़ार का जन्म हुआ था, जानिए आज के दिन का इतिहास- Read More »

भोपाल में कांस्टेबल को डीजीपी तक ने मारा सैल्यूट, जानिए क्यों

IANS  |   Updated On : August 15, 2019 11:50 AM
भोपाल पुलिस

भोपाल पुलिस

नई दिल्ली:  

आपने फिल्मों में तो अक्सर ऐसा देखा होगा कि एक नायक एक दिन का मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री बन जाता है, मगर मध्यप्रदेश में एक ऐसे कांस्टेबल हैं, जिन्हें बीते एक दशक से एक दिन कुछ घंटे का मुख्यमंत्री बनने का मौका मिल रहा है और इस दिन तमाम बड़े अधिकारी उन्हें सल्यूट मारते हैं. स्वाधीनता दिवस समारोह की हर तरफ तैयारियां चल रही हैं. राजधानी के लाल परेड मैदान में फुल ड्रेस रिहर्सल के दौरान नजारा पूरी तरह स्वाधीनता दिवस जैसा ही था. इस मौके पर एक व्यक्ति को डमी मुख्यमंत्री बनाया गया था, जिसे तमाम अधिकारी सल्यूट मारे जा रहे थे. सल्यूट मारने वालों में छोटे कर्मचारी से लेकर पुलिस महानिदेशक तक शामिल थे. अफसर जिसे सल्यूट मार रहे थे, वह कोई और नहीं पुलिस महकमे के कांस्टेबल रामंचद्र कुशवाहा हैं.

यह भी पढ़ें- आजादी के बेमिसाल 72 साल, स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

रामचंद्र कुशवाह भोपाल पुलिस में आरक्षक हैं. आम दिनों में वह एक आरक्षक की तरह अपनी ड्यूटी निभाते हैं, लेकिन स्वतंत्रता दिवस पर वह एकाएक बेहद खास हो जाते हैं. उनका रुतबा भी मुख्यमंत्री की तरह होता है. हालांकि यह रुतबा सिर्फ पांच घंटे के लिए रहता है. रामचंद्र कुशवाह के लिए यह पहला अवसर नहीं था, इससे पहले वह नौ बार मुख्यमंत्री की भमिका निभा चुके हैं और आज उन्होंने 10वीं बार यह भूमिका निभाई. 

यह भी पढ़ें- चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ का होगा गठन, लाल किले से प्रधानमंत्री ने की बड़ी घोेषणा

रामचन्द्र को इस बात की खुशी होती है कि वह अपना काम बखूबी कर रहे हैं. महज एक सिपाही होने बाद भी प्रदेश के पुलिस मुखिया से लेकर कलेक्टर, एसपी तक सब सलाम करते हैं. रामचंद्र अपने इस किरदार से खुश तो होते हैं, लेकिन उनके लिए यह ड्यूटी है और वह अपनी ड्यूटी पूरी ईमानदारी से करते हैं. उन्हें इस बात की ख़ुशी होती है कि वह अपना काम बखूबी कर रहे हैं. महज एक सिपाही होने के बाद भी प्रदेश के पुलिस मुखिया से लेकर कलेक्टर, एसपी तक सब सलाम करते हैं. रिहर्सल के दौरान वह डायस पर जाकर बतौर मुख्यमंत्री प्रदेश की जनता को संबोधित भी करते हैं, कुछ घंटों के लिए ही सही पर असली मुख्यमंत्री का ट्रीटमेंट मिलना रामचन्द्र के लिए गर्व से कम नहीं है. कई विजेताओं को पुरस्कार भी देते हैं.

First Published: Thursday, August 15, 2019 11:50 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG:

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

न्यूज़ फीचर

वीडियो