टूटी सड़क से गुजर जाते हैं विधायक से लेकर सभी आला अधिकारी, लेकिन नहीं ले रहे सुध

Santosah kumar  |   Updated On : September 17, 2019 03:01:50 PM
आजादी के बाद भी यहां नहीं मिल रहीं मूल-भूत सुबिधाएं

आजादी के बाद भी यहां नहीं मिल रहीं मूल-भूत सुबिधाएं (Photo Credit : )

Ranchi :  

जैसे-जैसे झारखंड में विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहा है... वैसे-वैसे लोगों का मिजाज भी बदलने लगा है और लोग अपने जन-प्रतिनिधियों को सबक सिखाने के लिए मुखर होने लगे है. वहीं चुनाव में सबक सिखाने के लिए गोलबंद होने लगे है. ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र का कुकडू प्रखंड आज भी बुनियादी सुविधाओं का बाट जोह रहा है. अक्सर विवाद में रहने वाले ईचागढ़ के विधायक साधु चरण महतो पर झूठा आश्वासन देने का आरोप क्षेत्र की जनता और विपक्ष लगा रहे हैं.

यह भी पढ़ें- शर्मनाक : आर्केस्ट्रा पार्टी की आड़ में होता था देह व्यापार, छापामारी कर पुलिस ने 9 लड़कियों को किया बरामद

ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र के कुकड़ू प्रखंड के लेटेमदा पंचायत के दारुदा मोड़ से जारगो गांव होते हुए कुईलटांड गांव के रेलवे लाइन तक के बीच से.. जहां लगभग 3 किलोमीटर ग्रामीण सड़क की स्थिति काफी जर्जर है. आपको बता दें कि केंद्र के साथ झारखंड में भी बीजेपी की सरकार है और यहां के सांसद और विधायक भी बीजेपी से ही हैं. क्षेत्र में बीजेपी के ही सांसद और विधायक बनने के बाद से इस क्षेत्र के लोगों को लगा था कि उनके वायदे के मुताबिक गांव की यह सड़क बन जाएगी. लेकिन बीजेपी के सांसद-विधायक रहने के बावजूद इस सड़क को बनाने की दिशा में किसी ने दिलचस्पी नहीं ली. जिससे लोगों में रोष व्याप्त है. यहां के लोग सांसद-विधायक के नाम से ही बिफर पड़ते हैं.

इस सड़क से प्रतिदिन लोग जानूम, लेटेमदा डेली मार्केट, कुकड़ू प्रखंड कार्यालय, पश्चिम बंगाल के बलरामपुर, पुरुलिया आदि जगह आना-जाना करते हैं. यही नहीं लोग इस सड़क से जारगो महादेव बेड़ा में स्थित प्रशिद्ध नावकुंज मंदिर पूजा करने भी जाते है. लेकिन आजतक यह सड़क नहीं बनी. इसके लिए प्रशासन या जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस सड़क को बनाने के लिए कोई पहल नहीं की गयी. सड़क आज जगह-जगह उखड़ कर खंडर के रूप में तब्दील हो चुकी है. स्थिति इतनी भयावह है की कोई भी यातायात के वाहन गांव लाना नहीं चाहता है. यदि गांव कोई प्रसव पीड़ित महिला को प्रसव दर्द उठ जाए तो मरने के सिवा कोई चारा नहीं है. ऐसे में स्थानीय जनप्रतिनिधियों के ऊपर उंगली उठना लाजमी है.

यह भी पढ़ें- यहां शुरू होने वाला है बांस का मेला, दुल्हन की तरह सजा शहर, देखें तस्वीरें

केंद्र एवं राज्य सरकार भले ही ग्रामीण सड़कों को मुख्य सड़क से जोड़ने का ढिढोंरा पीटती हो लेकिन जमीनी सच्चाई कुछ और ही बयां कर रही है. जहां स्थानीय जनप्रतिनिधियों की चुप्पी कई सवालों को जन्म दे रही है. आखिर क्या मामला है कि वे इन सड़कों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं. वही इस सड़क के नहीं बनने के कारण करीब एक दर्जन गांवों के करीब 6 हजार लोग उबड़-खाबड़ रास्ते मे चलने को मजबूर हैं. झारखंड अलग राज्य गठन के बाद ईचागढ़ विधानसभा से दूसरी बार अरविंद कुमार सिंह उर्फ मलखान सिंह के विधायक बनने के बाद इस सड़क को बनाया गया था. उसके बाद आजतक इस सड़क के जीर्णोद्धार के लिए न तो किसी जनप्रतिनिधि ने हाथ बढ़ाया न ही किसी प्रशासनिक पदाधिकारी ने.

जबकि इस सड़क से आए दिन स्थानीय विधायक के साथ प्रखंड से लेकर जिला के आला अधिकारी का आवागमन होता है. वहीं झारखंड मुक्ति मोर्चा सरायकेला जिला कार्यकारणी सदस्य इंद्रजीत महतो ने विधायक साधु चरण महतो के कार्यशैली पर सवाल खड़ा करते हुए ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र में सड़क निर्माण का टेंडर निकालने के नाम पर भ्रम फैलाने, झूठा आश्वासन देने और क्षेत्र की जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है.

भारतीय जनता पार्टी के घोषणा पत्र व खुद को विकास पुरुष बताने वाले झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास भले ही सबका साथ, सबका विकास नारे के साथ सत्ता में आए थे. लेकिन स्वार्थी विधायकों ने भारतीय जनता पार्टी के घोषणा पत्र के उद्देश्यों को ही बदल डाला. इस सड़क की तस्वीर को देखकर सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के दावे खोखले साबित हो रहे हैं.

इधर विधायक साधु चरण महतो ने एक बार फिर से विस्थापितों के नाम पर राजनीति शुरू कर दी है. जहां आदित्यपुर श्रीडूंगरी स्थित अपने आवास पर प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर विधायक साधु चरण महतो ने विस्थापितों के मुआवजा राशि को बढ़ाए जाने की मांग सरकार से करने का ऐलान किया है. उन्होंने बताया कि जब स्वर्णरेखा बहुद्देशीय परियोजना की लागत बढ़ सकती है, तो विस्थापितों के लिए मुआवजा राशि भी बढ़नी चाहिए. वैसे इससे पूर्व भी विधायक विस्थापितों की लड़ाई लड़ते रहे हैं लेकिन पिछला 5 साल उन्होंने अपने एजेंडे से विस्थापितों को गायब रखा, लेकिन चुनाव नजदीक आते ही एक बार फिर से विस्थापितों का दर्द इन्हें सताने लगा है.

First Published: Sep 17, 2019 02:55:41 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो