BREAKING NEWS
  • मिठाई का एक डिब्बा ही बन गया अहम सुराग, कमलेश तिवारी के कातिलों तक ऐसे पहुंची पुलिस- Read More »
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी में कई पदों पर निकली नौकरी, यहां से करें अप्लाई- Read More »
  • यूपी सरकार ने मानी शर्तें, अंतिम संस्कार के लिए राजी हुआ कमलेश तिवारी का परिवार- Read More »

जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम इसलिए आना चाहता है बाहर

News State Bureau  |   Updated On : June 21, 2019 12:18:02 PM

(Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

साध्वी से रेप व पत्रकार की हत्या मामले में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmeet ram rahim) जेल से बाहर आना चाहता है. गुरमीत राम रहीम ने खेतीबाड़ी के लिए जेल प्रशासन से पैरोल मांगी है.

सुनारिया जेल प्रशासन ने सिरसा प्रशासन को पत्र लिखकर रिपोर्ट मांगी है. जेल अधीक्षक ने बताया कि जेल में कैदी गुरमीत सिंह का आचरण अच्छा है. सिरसा प्रशासन अपनी रिपोर्ट रोहतक आयुक्त को भेजेगा. कानून व्यवस्था कायम रखना सिरसा प्रशासन के लिए चुनौती भरा होगा.

यह भी पढ़ें ः अमेरिका और ईरान के बीच तनाव का भारत पर भी पड़ा असर, जानें क्या है वजह

बता दें कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmit Ram Rahim) को सीबीआई की विशेष अदालत ने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस (Journalist Murder Case) में उम्रकैद की सजा सुनाई है. 17 साल पुराने इस हत्या मामले में राम रहीम के अलावा बाकी 3 दोषियों को भी उम्रकैद की सजा मिली है. पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने इस मामले में राम रहीम सहित सभी दोषी निर्मल सिंह, कुलदीप सिंह और किशन लाल को उम्रकैद की सजा सुनाई और सभी पर 50,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया.

2002 में हुई थी पत्रकार की हत्या

गौरतलब है कि 24 अक्टूबर 2002 में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति को कथित रूप से राम रहीम के अनुयायियों द्वारा गोली मारी गई थी जिसके बाद अस्पताल में करीब एक महीने तक जूझने के बाद 21 नवंबर 2002 को उनकी मृत्यु हो गई थी. छत्रपति ने ही राम रहीम के आश्रम में साध्वियों के साथ हो रहे गलत कामों को लेकर अपने अखबार 'पूरा सच' में मोर्चा खोला था.

यह भी पढ़ें ः 18 करोड़ के ड्रोन ढेर होने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने दी थी ईरान पर हमले को मंजूरी लेकिन फिर....

इसी दौरान उन्होंने डेरा में हो रहे यौन शोषण के खिलाफ एक साध्वी द्वारा तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को लिखे गए पत्र को अपने अखबार में प्रकाशित किया था. उनकी हत्या के खिलाफ 2003 में मामला दर्ज किया गया था. छत्रपति के परिजनों ने मामला दर्ज करवाया था और बाद में इसे सीबीआई को सौंप दिया गया था. सीबीआई ने 2007 में चार्जशीट दाखिल कर दी थी और इसमें डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम को हत्या की साजिश रचने का आरोपी माना गया था.

रेप मामले में राम रहीम को मिली थी 20 साल की सजा

राम रहीम अपनी दो शिष्याओं से बलात्कार का दोषी करार दिए जाने के बाद रोहतक के सुनारिया जेल में 20 साल के कारावास की सजा काट रहा है. कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम पर 30 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया था. सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम को रेप केस में 25 अगस्त 2017 को दोषी ठहराया था. इसके बाद पंचकूला समेत पंजाब और हरियाणा के कई जगहों पर राम रहीम के उपद्रवी समर्थकों ने जमकर उत्पात मचाया था, इसमें 38 लोगों की जानें गई थी और 250 से अधिक घायल हुए थे. दंगाईयों ने कई गाड़ियों, मीडिया कर्मियों को नुकसान पहुंचाया था.

First Published: Jun 21, 2019 11:45:55 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो