CAA के खिलाफ दिल्ली में हिंसक प्रदर्शन, 3 बस फूंके, पुलिसकर्मियों समेत कई छात्र घायल| Latest Updates

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : December 15, 2019 11:59:21 PM
दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन करते प्रदर्शनकारी

दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन करते प्रदर्शनकारी (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

नई दिल्ली:  

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ भड़की हिंसा में दिल्ली झुलस गई है. जामिया के छात्रों समेत प्रदर्शनकारियों ने कालिंदी कुंज रोड पर जमकर प्रदर्शन किया है. प्रदर्शन धीरे-धीरे उग्र होते गए और हिंसक हो गए. हिंसक प्रदर्शन में प्रदर्शनकारियों ने डीटीसी के 3 बसों को फूंक दिए. आग बुझाने गई दमकल की गाड़ियों पर हमला बोल दिया. इसको लेकर दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने कई रूटों को बंद कर दिया था. साथ ही दिल्ली पुलिस की सलाह पर डीएमआरसी ने कई 15 से अधिक मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया है. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुक रही है.

यह भी पढ़ें- सावरकर के पोते ने उद्धव ठाकरे से कहा- वह राहुल गांधी की सार्वजनिक रूप से पिटाई करें

प्रदर्शन में आप विधायक अमानतुल्लाह खान शामिल

ओखला अंडरपास से लेकर सरिता विहार तक की रूट को बंद कर दिया है. न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, दोनों कैरिजवे के सामने मथुरा रोड भी प्रदर्शनकारियों द्वारा अवरुद्ध कर दिया गया. इस प्रदर्शन में आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्ला खान के हाथ होने की बात कहा जा रहा है. लेकिन उन्होंने इस आरोप का खंडन किया है उन्होंने कहा कि वे जिस जगह पर प्रदर्शन कर रहे थे. वहां कोई आगजनी की घटना नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि जिस जगह हिंसा हुई, वहां मैं नहीं था. उन्होंने कहा कि SHO शाहीनबाग़ मौके पर मौजूद थे. प्रोग्राम की वीडियो रिकॉर्डिंग और CCTV भी हैं.

यह भी पढ़ें- दिल्ली के सभी स्कूल कल रहेंगे बंद, जानें दिल्ली सरकार ने क्यों जारी किया ये आदेश

हिंसा स्वीकार नहीं- अरविंद केजरीवाल

भड़की हिंसा के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की. उन्होंने कहा कि किसी को भी हिंसा नहीं करनी चाहिए. किसी भी तरह की हिंसा स्वीकार्य नहीं है. इसके बाद नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का खेल चलने लगा. कपिल मिश्रा ने कहा कि दिल्ली में गोधरा कांड करवाने की तैयारी है. आप नेता संजय सिंह ने कहा कि लोकतंत्र में हिंसा की कोई जगह नहीं. वहीं आम आदमी पार्टी ने बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया, तो वहीं बीजेपी ने आप पर निशाना साधा. जामिया के छात्र ने कहा कि दिल्ली हिंसा के पीछे हमारा हाथ नहीं है. इलाके में भारी तादाद में पुलिस तैनात कर दी गई है. जामिया में पैरा मिलिट्री फोर्स को तैनात कर दिया है.

यह भी पढ़ें- दिल्ली में गोलीबारी को लेकर डीसीपी चिन्मॉय बिस्वाल बोले- अफवाह फैलाई जा रही है 

पुलिस ने की हवाई फायरिंग, दागे आंसू के गोले

वहीं दिल्ली पुलिस ने भीड़ को तीतर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे. इस बीच पुलिस और छात्रों के बीच झड़प हो गई. झड़प में 50 से अधिक छात्र घायल हो गए. जिसे होली फैमिली में अस्पताल भर्ती कराया गया. वहीं कई पुलिसकर्मी को भी सिर में चोट लगी है. जामिया के छात्रों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की. जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर लाठी चार्ज किया. डीसीपी साउथ ईस्ट चिन्मय बिस्वाल से पूछने पर कहा कि प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने हवाई फायरिंग की है. गोलीबारी बिल्कुल भी नहीं हुई है. यह एक झूठी अफवाह है जो फैलाई जा रही है. डीसीपी ने कहा कि कुछ लोगों को भी हिरासत में लिया गया है. वहीं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने ओखला, जामिया, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी और मदनपुर खादर इलाके में सोमवार को स्कूल बंद रखने के निर्देष दिए हैं. इसके बाद जामिया के छात्रों को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों का साथ मिला. जेएनयू के छात्रों ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय आईटीओ के बाहर प्रदर्शन किया. इसके साथ दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रों ने भी प्रदर्शन किया.

5 जनवरी तक लीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय बंद

वहीं अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में भी नागरिकता कानून की आग अभी तक सुलग रही है. विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार अब्दुल हामिद ने कहा कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए हमने आज शीतकालीन अवकाश की घोषणा की है. विश्वविद्यालय 5 जनवरी को फिर से खुल जाएगा और उसके बाद परीक्षाएं होंगी. अब्दुल हमीद ने कहा कि परिसर में स्थिति तनावपूर्ण है. कुछ लड़कों और असामाजिक तत्वों ने आकर पथराव किया है. इसलिए हमने पुलिस से स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कार्रवाई करने का अनुरोध किया है. 

सलमान खुर्शीद ने अस्पताल में घायलों से मुलाकात की

कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने होली फैमिली अस्पताल में घायलों से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि हम कोर्ट में एफ़ीडेविट डालेंगे और जो ज़िम्मेदार होगा उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई करेंगे. जो कुछ हुआ वो ग़लत है. ऐसा नहीं होना चाहिए. ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. लॉ नाम की कोई चीज़ देश में बची नहीं है. ये लोग जिन्होंने किया है, उनको हम कोर्ट के सामने लाएंगे और एक प्रॉसेस है जिसके तहत ये कार्रवाई ज़रूरी है.

First Published: Dec 15, 2019 11:52:20 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो