CAA विरोधी प्रदर्शन में बच्चों के होने पर NCPCR सख्त, 10 दिनों के भीतर कलेक्टर से मांगी रिपोर्ट

News State Bureau  |   Updated On : January 21, 2020 06:23:35 PM
CAA विरोधी प्रदर्शन में बच्चों के होने पर NCPCR सख्त, 10 दिनों के भीतर कलेक्टर से मांगी रिपोर्ट

शाहीनबाग में CAA के खिलाफ प्रदर्शन पर बैठे बच्चे (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

नई दिल्ली:  

दिल्ली के शाहीनबाग में पिछले एक महीने से नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है. सुप्रीम कोर्ट के बाद अब राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने इस पर संज्ञान लिया है. CAA के खिलाफ प्रदर्शन में भाग लेने वाले बच्चों के वायरल वीडियो की शिकायत पर आयोग हरकत में आ गया है. उन्होंने इस पर आपत्ति जताते हुए दक्षिण पूर्वी दिल्ली के जिलाधिकारी से 10 दिनों के भीतर इस पर रिपोर्ट मांगी है. वायरल वीडियो में देखा गया है कि बच्चे इस प्रदर्शन में शामिल है.

यह भी पढ़ें- हमारी दादी अम्मा को बरगला कर LG हाउस ले जाया गया, प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी

आयोग ने बच्चे के अधिकार को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा कि कौन इन बच्चों को प्रदर्शन में करवा रहा है. जिन बच्चों को स्कूल में होना चाहिए था, उनको धरना-प्रदर्शन में शामिल करवाया जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने भी इस धरने के खिलाफ कड़ी आपत्ति जताई थी. सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को उचित एक्शन लेने के लिए कहा था, लेकिन इसेक बावजूद भी प्रदर्शनकारी नहीं माने.

यह भी पढ़ें- DAC की बैठक में शामिल हुए CDS बिपिन रावत, इलेक्ट्रॉनिक वॉर फेयर को मिली मंजूरी

बता दें कि इस प्रदर्शन का कोई मुख्य चेहरा नहीं है और ना ही इस प्रदर्शन के कोई मुखिया हैं. पूस की रात के कड़ाके के ठंड में बच्चे प्रदर्शनकारियों के साथ बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं. जिस उम्र में बच्चे स्कूल जाते हैं, उस उम्र में वो प्रदर्शन कर रहे हैं. सूत्रों के हवाले से यह सवाल उठ रहा है कि अगर कल किसी बच्चे के साथ कोई अप्रिय घटना घट जाए तो यह किसकी जिम्मेदारी होगी? कौन दिलाएगा इन मासूमों को न्याय? इसको लेकर NCPCR ने चिंता जाहिर की है. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने इस मामले पर संज्ञान लिया है. CAA के खिलाफ प्रदर्शन में भाग लेने वाले बच्चों के वायरल वीडियो की शिकायत पर आयोग हरकत में आ गया है. उन्होंने इस पर आपत्ति जताते हुए दक्षिण पूर्वी दिल्ली के जिलाधिकारी से 10 दिनों के भीतर इस पर रिपोर्ट मांगी है.

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस परेड के राजकीय अतिथि होंगे जायर बोल्सोनारो, मजबूत होंगे भारत-ब्राजील संबंध

वहीं इससे पहले वेद भूषण शाहीनबाग SHO को तहरीर देकर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ FIR दर्ज करने की मांग की थी. इसके अलावा कई लोग सुप्रीम कोर्ट में इस प्रदर्शन के खिलाफ याचिका दायर कर चुके हैं. एक महीने से अधिक हो गए, लेकिन अभी भी प्रदर्शन जारी है. जिसके चलते पूरा रोड जाम है. लेकिन हो रहे इस प्रदर्शन के कोई मुख्य चेहरा नहीं है. विपक्षी पार्टियों के नेता आते हैं, 2-4 नारे लगाते हैं और खानापूर्ति करके चले जाते हैं.

यह भी पढ़ें- दोवास सम्मेलन में बोले डोनाल्ड ट्रंप- अमेरिका-चीन के बीच व्यापार समझौते का दूसरा चरण जल्द, क्योंकि

कल यानी सोमवार को कांग्रेस के दो बड़े नेता शाहीनबाग पहुंचे थे. एक दिल्ली के पूर्व उपराज्यपाल और दूसरो दिग्विजय सिंह. दोनों नेता कुछ देर तक रुके और फिर चले गए. सरकार से कानून को वापस लेने की मांग की. इससे पहले भी कई नेता पहुंचे, लेकिन आज तक कोई नेता खुलकर सामने नहीं आए. वहीं इससे पहले कपिल सिब्बल ने अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाया था कि वो दिल्ली चुनाव के डर से CAA के खिलाफ कुछ नहीं बोल रहा है.

First Published: Jan 21, 2020 06:23:36 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो