BREAKING NEWS
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »
  • IND vs SA, Live Cricket Score, 1st Test Day 1: भारत ने टॉस जीता पहले बल्‍लेबाजी- Read More »
  • Howdy Modi: पीएम मोदी Iron Man हैं, जानिए किसने कही ये बात- Read More »

NIA ने झीरम कांड की फाइल राज्य सरकार को देने से किया इंकार, सीएम भूपेश बघेल बोले 'यह बदलापुर नहीं साहब'

News State Bureau  |   Updated On : February 13, 2019 01:27:13 PM
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया NIA ने झीरम कांड की फाइल राज्य सरकार को देने से किया इंकार

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया NIA ने झीरम कांड की फाइल राज्य सरकार को देने से किया इंकार (Photo Credit : )

रायपुर:  

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को विधानसभा में जानकारी दी कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने झीरम कांड की फाइल राज्य सरकार को देने से मना कर दिया है. उल्लेखनीय है कि मई 2013 में हुई इस घटना में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार पटेल, वीसी शुक्ला, महेन्द्र कर्मा समेत करीब 31 लोग नक्सलियों की गोली का शिकार हो गए थे. बजट पर सामान्य चर्चा का जवाब देते हुए सीएम भूपेश बघेल दोनों प्रमुख विपक्षी दलों भाजपा और जकांछ पर भी जमकर बरसे.

यह भी पढ़ें- पढ़ें CAG Report : पीएम नरेंद्र मोदी ने मनमोहन सिंह सरकार की तुलना में 2.86% सस्‍ते में खरीदा राफेल लड़ाकू विमान

सीएम भूपेश बघेल ने बीजेपी विधायकों की ओर इशारा करते हुए कहा कि आप लोग उनके इशारों पर 15 साल चलते रहे, हालत क्या हुई 15 सीट में सिमट गए. सीएम भूपेश बघेल ने बीजेपी विधायकों से पूछा कि कभी आप लोगों ने हमारे खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की तो बदला कैसा, यह बदलापुर नहीं साहब यह वक़्त बदलाव का है.

यह भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ः बीजापुर में सुरक्षाबलों की बड़ी सफलता, 10 नक्सलियों को किया ढेर

बता दें कि, 25 मई 2013 को दोपहर के वक्त. विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस का पूरा ध्यान बस्तर में था. इसके लिए प्रदेश में परिवर्तन यात्रा की शुरूआत सुकमा से हो रही थी. अर्से बाद ऎसा समय आया था, जब कांग्रेस के सभी दिग्गज नेता एक साथ नजर आ रहे थे, यहां तक कि धुर विरोधी माने जाने वाले विद्याचरण शुक्ल और अजीत जोगी भी इस यात्रा में शामिल थे. कांगेस नेताओं का काफिला जैसे ही बस्तर जिले के दरभा थाना क्षेत्र के अंतर्गत झीरम घाटी में पहुंचा. नक्‍सलियों ने हमला कर दिया.

यह भी पढ़ें- कुंभ मेला पहुंचे बिहार के राज्यपाल के टेंट में लगी भीषण आग, बाल-बाल बचे लालजी टंडन

मौके पर करीब 13 वाहनों में माओवादियों ने जमकर गोलियां बरसाई. कुछ गोलियां वाहनों के आर-पार हो गई पूरी रायफल खाली कर दी गई फायरिंग के बाद महेन्द्र कर्मा बाहर निकले और आत्मसमर्पण कर दिया. कर्मा को माओवादियों ने हाथ बांधकर 200-300 मीटर दूर ले गए और गोलियों से भून दिया. उनके साथ एक पीएसओ भी मारा गया. माओवादियों ने महेन्द्र कर्मा का नाम लेकर पूछा और पुलिस वालों की भी जानकारी ली.

यह भी पढ़ें- कुत्ते के काटने से महिला की मौत, बिलासपुर हाईकोर्ट ने सुनाया ये बड़ा फैसला

इसके बाद पीएसओ को वापस जाने कह दिया. महेन्द्र कर्मा के साथ राजनांदगांव के पूर्व विधायक उदय मुदलियार भी मौजूद थे, जिन्हें फायरिंग के दौरान गोली लगी और घटनास्थल पर ही मौत हो गई. इस घटना में करीब 150 से अधिक महिला माओवादी शामिल थीं. वे ही ज्यादा उत्पात मचा रही थी. मिशन की सफलता के बाद महिला माओवादी नाचती रहीं. इस हमले में कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार पटेल, पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल, पूर्व मंत्री महेंद्र कर्मा, पूर्व विधायक उदय मुदलियार को नक्सलियों ने अपना निशाना बनाया था.

यह भी पढ़ें- स्कूलों में अगर हुआ कोई हादसा तो अब जेल जाएंगे प्रबंधक

इस घटना के तीन दिन बाद राज्य की तत्कालीन बीजेपी सरकार ने एक न्यायिक आयोग का गठन किया था. लेकिन पांच साल बाद भी रिपोर्ट नहीं आने पर कांग्रेस सरकार ने इसे राजनैतिक षड्यंत्र करार देते हुए पूरी घटना की SIT से जांच कराने का फैसला किया था.

First Published: Feb 13, 2019 01:15:24 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो